Last Update : 23 06 2017 09:21:38 AM

छात्र संघ के सवाल पर शिक्षा मंत्री का यू—टर्न

धन सिंह रावत ने जब देखा कि उनका बयान छात्रों के गले नहीं उतरा तो वह अपने बयान से पलटी मार गये.....

'उत्तराखंड के विश्वविद्यालयों में छात्र संघ चुनाव कराये जाने की पद्धति को बदला जायेगा और यहां भाषण प्रतियोगिता के जरिये छात्र संघ नेताओं का चुनाव होगा।'

जनज्वार, देहरादून। यह अजीबोगरीब बयान है उत्तराखंड के उच्च शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ. धन सिंह रावत का। उनके इस बयान का यहां पुरजोर तरीके से विरोध हुआ, जिसके बाद वह अपने बयान से पलट गये और अपनी ही कही बात का खंडन करने लगे।

एक दैनिक में छपी खबर के अनुसार मंत्री धन सिंह ने कहा, 'सरकार ने निर्णय लिया है कि महाविद्यालय में छात्र संघ चुनाव में निर्वाचन के स्थान पर उम्मीदवार के छात्र-छात्राओं के सम्मुख 15 मिनट का भाषण होगा। भाषण के आधार पर ही छात्र संघ के पदाधिकारियों का चुनाव होगा।’

यह खबर जैसे ही सामने आयी राज्य में हर तरफ मंत्री रावत के इस बयान का पुरजोर विरोध होने लगा। हल्द्वानी में एनएसयूआई नेता हर्षित जोशी के नेतृत्व में डॉ. रावत का पुतला फूंका गया। हर्षित ने कहा कि उच्च शिक्षा मंत्री अपनी तानाशाही थोप रहे हैं।

जब मंत्री रावत ने देखा कि उनका बयान उनके गले की फांस बनता जा रहा है, तो उन्होंने सोशल मीडिया पर अपने बयान का खंडन किया। हालांकि जानकारों का कहना है कि मंत्री ने जब देखा कि उनका बयान छात्रों के गले नहीं उतरा है तो वह अपने बयान से पलटी मार गये हैं।

जनपक्षधर पत्रकारिता को सक्षम और स्वतंत्र बनाने के लिए आर्थिक सहयोग दें। जनज्वार किसी भी ऐसे स्रोत से आर्थिक मदद नहीं लेता जो संपादकीय स्वतंत्रता को बाधित करे।
Posted On : 23 06 2017 09:13:58 AM

कैंपस