Last Update : 08 07 2017 07:02:52 PM

भारतीय पोलो टीम पाकिस्तान को हरा विश्वकप के लिए क्वालिफाई

भारतीय टीम की यह लगातार तीसरी जीत थी। इससे पूर्व टीम ने ईरान एवं दक्षिण अफ्रीका को भी हराया था...

तेहरान में जोन ‘ई' के प्ले आॅफ मैच में कांटे की टक्कर वाले मुकाबले में भारतीय पोलो टीम ने कल 7 जुलाई की शाम को हुए मैच में पाकिस्तान को 8-7 से शिकस्त दी। अत्यधिक स्कोर वाले इस मैच के दौरान दोनों टीमों द्वारा कुल 15 गोल किए गए। इस जीत के पश्चात् भारतीय टीम ने अब आगामी अक्तूबर में ऑस्ट्रेलिया में सिडनी में होने वाले विश्वकप के फाइनल्स के लिए क्वालिफाई कर लिया है।

मैच के पहले राउंड में भारतीय टीम ने 4-1 की बढ़त हासिल की, जिसमें ध्रुवपाल गोदारा ने 2 गोल और महाराजा पद्मनाभ एवं सिद्धार्थ शर्मा, दोनों ने 1-1 गोल किए। दूसरे राउंड में पाकिस्तान टीम ने तीन गोल कर मैच पर फिर से अपनी पकड़ बनाई। हालांकि, इस चक्कर में महाराजा पद्मनाभ ने एक गोल करके भारतीय टीम को 5-4 की बढ़त दिलाई।

तीसरे राउंड में पाकिस्तान ने दो और गोल किए। इसमें ध्रुवपाल ने पेनल्टी के माध्यम से एक और गोल किया। तीसरे राउंड की समाप्ति पर दोनों टीमें 6-6 गोल के स्कोर के साथ बराबरी पर थीं। मैच के अंतिम चक्कर में सिद्धांत ने एक फील्ड गोल किया, जबकि ध्रुवपाल ने पैनल्टी के जरिए एक गोल किया। इस राउंड में पाकिस्तान टीम मात्र एक गोल करने में ही कामयाब हो सकी।

इस तरह भारत 8-7 से विजयी रहा। पूरे मैच में ध्रुवपाल ने 4 गोल किए, जबकि महाराजा पद्मनाभ एवं सिद्धांत ने 2-2 गोल किए। भारतीय टीम की यह लगातार तीसरी जीत थी। इससे पूर्व टीम ने ईरान एवं दक्षिण अफ्रीका को भी हराया था।

मैच के दौरान पाकिस्तानी खिलाड़ी अहमद तिवाना घोड़े से गिर गए थे, जिससे उन्हें गंभीर चोट लगी। वे फिलहाल आईसीयू में हैं, जिनके स्थान पर मोहम्मद खान को टीम में शामिल किया गया था।

इस जीत से उत्साहित महाराजा पद्मनाभ सिंह ने कहा कि गहन प्रशिक्षण एवं लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित किए जाने से भारतीय टीम को अपनी जीत का सिलसिला बनाये रखने में मदद की है। उच्चस्तरीय प्रशिक्षण प्रदान किए जाने के लिए उन्होंने टीम के कोच, उदय कलान और इंडियन पोलो एसोसिएशन को धन्यवाद दिया।

महाराजा पद्मनाभ सिंह ने कहा कि जिस प्रकार उनके दादाजी सवाई मानसिंह द्वितीय, वर्ष 1957 में विश्व कप भारत लाए थे, उसी प्रकार से भारतीय टीम इस वर्ष विश्व कप लाने के लिए कटिबद्ध है।

Posted On : 08 07 2017 07:00:53 PM

संस्कृति