Last Update : 09 10 2017 04:00:38 PM

इतनी नफरत कहां से ले आते हैं पतिदेव

मियां—बीवी के बीच जिस तरह की हिंसक वारदातें इन दिनों सामने आते हैं उसको देख ऐसा लगता है रिश्ता प्रेम का नहीं लंबे समय से गहरे नफरत और नापसंदगी का रहा हो...
 
दिल्ली। हिंदू धर्म से ताल्लुक रखने वाले जसविंदर ने छह साल पहले मुस्लिम हिना से प्रेम विवाह किया था। जहां धर्म के बंधन तोड़कर यह जोड़ा शादी जैसे पवित्र बंधन में बंधा था, वहां अब इनके लिए एक दूसरे को सहन करना इतना मुश्किल हो गया कि पति ने पत्नी पर चाकू से ताबड़तोड़ वार किए। कहां से भर गई होगी इतनी नफरत इस रिश्ते में, जिसने समाज के बनाए तमाम नियम कानूनों, धर्म की दीवारों को तोड़कर एक दूसरे का हाथ थामा था। परिवार का हर तरह का विरोध, धमकी भी इनके आड़े नहीं आई थी। 
 
मामले की जांच कर रही पुलिस कहती है कि पिछले महीने से 32 वर्षीय मृतक जसविंदर अपनी पत्नी हिना और 4 साल की बेटी से अलग रह रहा था। इस जोड़े ने कोर्ट में तलाक की याचिका दायर की हुई थी और वह अपनी बेटी को अपने साथ रखने के लिए कोर्ट में अपील कर रहा था। कोर्ट ने जसविंदर को बेटी से मिलने के लिए सप्ताह में दो दिन की इजाजत दी हुई थी, शनिवार यानी 7 अक्तूबर की रात को भी वह बेटी से मिलने ही आया हुआ था।
 
वह अपनी 27 वर्षीय पत्नी हिना को कुछ बात करने के लिए छत पर ले गया तो दोनोंं में कहासुनी हो गई। मां—बाप के झगड़े और हिंसक वारदात की गवाह वह मासूम भी थी। जो मां—पिता को लड़ते देख उनके पीछे—पीछे छत तक चली गई थी। जसविंदर शायद पहले से ही कुछ तय करके आया होगा, तभी तो उसने बीवी पर चाकू से दर्जनों वार किए और फिर खुद छत से कूदकर जान दे दी।
 
पड़ोसी तो यह भी कहते हैं कि जसविंदर को अपनी बीवी के चरित्र पर भी शक था और यह उनकी लड़ाई की एक बड़ी वजह थी। जब जसविंदर ने बीवी को चाकू मारा तो वह मदद के लिए नीचे की तरफ भागी। जब तक वह किसी से कुछ कहती जसविंदर छत से कूद चुका था। 
 
पड़ोसी कहते हैं जब तक हम हिना की आवाज सुन उसकी मदद के लिए पहुंचे उसका पति जसविंदर चौथी मंजिल से नीचे कूद गया और उसका सिर जमीन से टकराया, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई।
 
मामले की जांच कर रहे रोहिणी के डीसीपी ऋषि पाल कहते हैं केस दर्ज कर लिया गया है। मृतक की बीवी और पति द्वारा चाकू से किए गए हमले में गंभीर रूप से घायल महिला हिना ने पुलिस को बताया कि उसने जसविंदर से 6 साल पहले प्रेम विवाह किया था। पहले सब ठीक था, लेकिन बाद में उनके रिश्ते तनावपूर्ण होने लगे। इस जोड़े ने कोर्ट में तलाक के लिए अर्जी दाखिल की दी। करवाचौथ का व्रत न रखने के बाबत हिना ने भी पुलिस से कहा था कि वह पहली बार यह व्रत नहीं रखने वाली थी। 
 
हिना और जसविंदर की रोज—रोज की चिकचिक के बाद जहां पिछले एक—दो महीने से वह अपने परिवार के पास रह रहा था वहीं हिना अपनी बहन, भाई और 4 साल की बच्ची के साथ अलग रह रही थी। घटना के बाद पड़ोसी बताते हैं कि हिना और जसविंदर कभी आसपास वालों से बातचीत नहीं करते थे, इसीलिए कोई उनसे ठीक से परिचित भी नहीं था।
 
पड़ोसियों का तो यह भी कहना है कि चूंकि हिना जसविंदर के लिए करवाचौथ का व्रत नहीं रखने वाली थी इसलिए गुस्साकर उसके पति ने उसकी जान लेनी चाही। ऐसा दावा पड़ोसी इसलिए करते हैं क्योंकि वे कहते हैं जब वे लड़ रहे थे तो उन दोनों के बीच करवाचौथ के व्रत को लेकर भी कहासुनी हो रही थी।
 
मगर हर रोज हो रही इस तरह की घटनाओं से एक सवाल उपजता है कि क्या इनके लिए एकल परिवार जिम्मेदार नहीं हैं। अगर हिना—जसविंदर अकेले रहने के बजाय परिवार के साथ रहते तो क्या इस तरह की घटना होती। परिवार में सास—ससुर और अन्य सदस्यों के लिए घट रहा स्पेस भी ऐसी घटनाओं के लिए जिम्मेदार है। पहले इस तरह की घटनाएं इसलिए सामने नहीं आती थीं या न के बराबर होती थीं क्योंकि संयुक्त परिवारों में आपसी तनावपूर्ण रिश्तों को परिजन संभाल लेते थे या समझा—बुझा लेते थे, जिससे तलाक या अन्य तरह के तनावपूर्ण स्थितियों में जोड़े न जाएं। आखिर क्यों वह जोड़ा इस रिश्ते को न संभाल सका और कैसे उनके बीच इस हद तक नफरत की दीवार आ गई कि पति उस बीवी पर ताबड़तोड़ वार करता है जिसके लिए उसने समाज—धर्म, घर—परिवार सबको दरकिनार कर दिया था।         (फोटो प्रतीकात्मक)
जनपक्षधर पत्रकारिता को सक्षम और स्वतंत्र बनाने के लिए आर्थिक सहयोग दें। जनज्वार किसी भी ऐसे स्रोत से आर्थिक मदद नहीं लेता जो संपादकीय स्वतंत्रता को बाधित करे।
Posted On : 09 10 2017 03:11:18 PM

विविध