Last Update : 03 02 2018 11:09:46 AM

मां के सामने बेटे की इसलिए हत्या हो गयी कि उसका धर्म था अलग

मोहब्बत और धर्म—जाति के बीच का अंकुश आज भी इतना गहरा है कि किसी को भरी सड़क पर गला रेतकर सिर्फ इसलिए मार डाला जाता है कि उसका धर्म अलग है और प्रेमिका का धर्म अलग

जनज्वार, दिल्ली। दो बालिग लोगों के बीच चल रहे दो वर्षों के प्रेम का अंत इतना खौफनाक होगा, वह भी दिल्ली में, वह भी बीच सड़क पर किसने सोचा होगा। हमारे देश में आज भी धर्म के अंधेरे इतने गहरे हैं कि अपने ही हाथों पाल-पोसकर बड़े किए बच्चों की खुशियां मंदिरों के घंटों और मस्जिदों की अजानों से छोटी पड़ जाती हैं और पता नहीं किस ईश्वर के आदेश पर हमारे ही बीच रहने वाले लोग अपने ही बच्चों को, उनकी खुशियों को बर्बाद कर देते हैं और उफ भी नहीं करते।

सिर्फ धर्म और जाति की रक्षा के नाम पर!

पश्चिमी दिल्ली के रघुवीर नगर इलाके में वृहस्पतिवार 1 फरवरी की रात 8 बजे 23 वर्षीेय अंकित सक्सेना को गला रेतकर मार डाला गया। उसकी हत्या सरे बाजार भीड़ में की गयी। जब उसे मारा गया उस वक्त अंकित की मां मौके पर पहुंच चुकी थी और बेटे को जान से न मारने के लिए गिड़गिड़ाती रही। अंकित को मारने में रोड़ा बनती मां का पहले लड़की के परिजनों ने मारा। जब वह घायल हो गयी तब अंकित की प्रेमिका के परिवार वालों ने धारदार चाकू से अंकित सक्सेना गला रेत दिया, जिसके कुछ ही मिनट में उसकी अस्पताल ले जाते हुए मौत हो गयी।

अंकित सक्सेना और उसकी प्रेमिका शहजादी रघुवीर नगर के एक ही गली में रहते थे। इन दोनों के बीच पिछले दो वर्षों से प्रेम था और दोनों शादी करना चाहते थे। लेकिन लड़की के घर वालों को यह रिश्ता मंजूर नहीं था, क्योंकि लड़के का धर्म अलग था। लड़की दिल्ली यूनिवर्सिटी में ओपेन क्लासेज में दूसरे वर्ष की छात्रा है। घटना के बाद वह भी सामने आ गयी है और उसने आशंका जाहिर की है कि उसकी भी उसके घर वाले हत्या कर सकते हैं।

बताया जाता है कि लड़की के घर वाले इस बात से परेशान थे कि वह अक्सर लड़के मिलने जुलने के लिए घर से गायब रहती थी, जबकि घर वाले उसकी दूसरी जगह शादी करना चाहते थे। घटना की संवेनशीलता को देखते हुए वहां पुरे इलाके में पुलिस और अर्धसैनिक बलों को तैनात कर दिया गया है।

घटना के दिन वृहस्पतिवार को भी लड़की घर में नहीं थी। उसी की पूछताछ के लिए पहले शहजादी के मां, बाप, चाची, चाचा और भाई अंकित के घर गए। वहां झगड़ा करने लगे। मां ने बेटे अंकित को फोन कर बताया कि शहजादी के घर वाले हमारे घर पर हंगामा कर रहे हैं।

क्षेत्र के डीसीपी विजय कुमार के मुताबिक मां की सुन अंकितवृहस्पतिवार 1 फरवरी की रात आठ बजे अपनी कार से घर ही आ रहा था कि रास्ते में शहजादी के भाई ने उस धर लिया। पहले पूछा कि बहन कहां है। जब उसने बहन की अनभिज्ञता जाहिर की तो परिजन भड़क उठे। फिर अंकित ने कहा कि पुलिस के पास चलिए वहीं बात हो जाएगी और अगर मैं दोषी हाउंगा तो आपलोग मुकदमा दर्ज कराइएगा।

लेकिन तभी लड़की के गुस्साए परिजन अंकित सक्सेना पर टूट पड़े और उनमें से किसी ने अंकित के गले को तेज चाकू से रेत दिया। घटना अंकित के मां के सामने ही हुई। मां एक बैट्री रिक्शा से अभी बेटे को अस्पताल ले जा रही थी उसकी रास्ते में मौत हो गयी। अस्पताल ने भी पहुंचते ही मृत घोषित कर दिया।

इस मामले को लेकर पूरे इलाके में गहरा तनाव है और प्रशासन अपनी ओर से मुस्तैद है। अब तक लड़की की मां, चाचा और उसका एक नाबालिग भाई गिरफ्तार किए जा चुके हैं।

जनपक्षधर पत्रकारिता को सक्षम और स्वतंत्र बनाने के लिए आर्थिक सहयोग दें। जनज्वार किसी भी ऐसे स्रोत से आर्थिक मदद नहीं लेता जो संपादकीय स्वतंत्रता को बाधित करे।
Posted On : 03 02 2018 11:07:34 AM

समाज