Last Update : 28 06 2017 08:14:58 AM

मोदी की तारीफ में एक शब्द नहीं बोले अमेरिकी राष्ट्रपति

मोदी की अमेरिका यात्रा पर पढ़िये पूर्व आईपीएस वीएन राय का लेख, जिन्होंने भारत के कई प्रधानमंत्रियों के साथ अमेरिका यात्रा की है। संयोग से अब की वह प्रधानमंत्री की यात्रा में तो नहीं पर अमेरिका में मौजूद थे...

मोदी के अमेरिका पहुँचने पर हवाई अड्डे पर उनके स्वागत के लिए बमुश्किल एक मेयर का पहुंचना बताता है कि अमेरिका में हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र दामोदर दास मोदी की क्या कद्र और कितना महत्व है। भारत में मोदी के चाहने वालों के लिए यह किसी सदमे से कम नहीं है, क्योंकि चाहने वालों को सरकार पोषित मीडिया ने बता रखा है कि मोदी की अमेरिका में धाकड़ छवि है

पर यहां सबकुछ उल्टा देखने को ही मिला। बड़ी बात तो यह है कि अमेरिका के वाशिंगटन स्थित व्हाइट हाउस में भारतीय प्रधानमंत्री मोदी का पारम्परिक रूप से लॉन पर मीडिया के सामने रस्मी स्वागत करते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प ने मोदी की व्यक्तिगत तारीफ में एक शब्द भी नहीं कहा।

इससे जाहिर होता है कि मोदी को ट्रम्प ने कोई भाव नहीं दिया, जबकि मोदी की ट्रम्प से पहली मुलाकात थी। पहली मुलाकात में यह रवैया आश्चर्य में डालने वाला है। यह आश्चर्य इसलिए भी है कि सरकार पोषित मीडिया ने देश को बहुप्रचारित स्तर पर बता रखा है कि मोदी की पूछ अमेरिकी शासकों में दूसरे किसी भी भारतीय प्रधानमंत्री के मुकाबले बहुत ज्यादा है।

जानकारों को पूर्व भारतीय प्रधानमंत्री राजीव गाँधी, नरसिम्हा राव, अटल बिहारी वाजपेयी और मनमोहन सिंह की तारीफ में तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपतियों के कसीदे याद हैं। ओबामा ने तो मनमोहन सिंह को विश्व के श्रेष्ठतम अर्थशास्त्रियों में शामिल बताया था। यह वही मनमोहन सिंह हैं जिनकी छवि भारतीय समाज में अब एक मौनी बाबा की बना के रख दी गयी है।

ऐसे 'मौनी बाबा' के मुकाबले मोदी का स्वागत टांय-टांय फिस्स होना, मोदी की वैश्विक छवि पर एक सवालिया निशान खड़ा करता है?

हालांकि कुछ का कहना है कि जिस ट्रम्प को बस अपनी तारीफ़ की ही आदत है, वह मोदी की तारीफ कैसे करता? एक अन्य विचार है कि मोदी में तारीफ लायक है भी क्या? कुछ भी हो, इसी ट्रम्प ने इसी व्हाइट हाउस लॉन पर कुछ ही दिन पहले रूमानिया जैसे अदने से देश के राष्ट्रपति की तारीफ़ के बिंदु भी ढूंढ लिए थे।

मोदी का व्यक्तिगत अपमान इसलिए भी हुए चुभने वाला हो जाता है कि उनके प्रधानमंत्री बनने के बाद भारत ने अमेरिकी युद्ध इंडस्ट्री से रिकार्ड तोड़ युद्ध का सामान खरीद कर अमेरिकी अर्थव्यवस्था को जम कर सहारा दिया है।

जाहिर है कि ट्रम्प ने मोदी को कोई भाव नहीं दिया, जबकि उनकी यह पहली मुलाकात थी। मोदी के लिए व्यक्तिगत अपमान इस लिए भी हुए दोहरा चुभने वाला हो जाता है कि उनके प्रधानमंत्री बनने के बाद भारत ने अमेरिकी युद्ध इंडस्ट्री से रिकार्ड तोड़ युद्ध का सामान खरीद कर अमेरिकी अर्थव्यवस्था को जम कर सहारा दिया है।

भारत ने 2009 में अमेरिका से 200 मिलियन डॉलर की जंगी खरीद की थी, जो 2016 में बढ़कर 9 बिलियन डॉलर तक पहुँच गयी। यानी हथियार खरीद पर मोदी सरकार ने 2009 के मुकाबले 45 गुना अधिक बजट खर्च किया। इस खर्च का जिक्र स्वयं अमेरिकी राष्ट्रपति डोनॉल्ड ट्रम्प ने अपने स्वागत भाषण में किया, विशेषकर भारत द्वारा 100 जहाज खरीदने के समझौते का।

दूसरे शब्दों में, जो पैसा देश के विकास में लगाना चाहिए था, वह अमेरिकी रोजगारों को पैदा करने में मोदी सरकार लगा रही है। जबकि इसके बदले में अमेरिका कोई ऐसा आश्वासन भी नहीं दे रहा कि भारतीय कंप्यूटर प्रोफेशनल के अमेरिका आने पर लगने जा रहे प्रतिबन्ध कुछ ढीले किये जाएंगे। नारायण मूर्ति की इनफ़ोसिस पर तो अभी-अभी एक भारी भरकम जुरमाना भी ठोका गया है।

हालाँकि, ट्रम्प ने भारत को विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र अवश्य कहा, और यह भी कि दोनों देशों के संविधान के पहले तीन शब्द एक समान 'वी द पीपल' हैं। शायद लोकतंत्र की इस कसौटी पर जोर देने के बाद ट्रम्प को लगा हो कि इस सन्दर्भ में मोदी का अपना ट्रैक रिकॉर्ड इस योग्य नहीं कि उनकी तारीफ की जा सके। उन्होंने सरकारी काम-काज में मोदी सरकार के भ्रष्टाचार विरोधी दावों का जिक्र अवश्य किया, शायद इसलिए कि अमेरिकी कंपनियों को भारत में घूस देने से छूट मिल जाय।

भारत में बिका हुआ मीडिया मोदी की अमेरिका यात्रा को जैसा भी बढ़ा-चढ़ा कर पेश कर रहा हो, अमेरिकी मीडिया में बहुत कम और वह भी नेगेटिव बातें ही आ रही हैं। भारतीय दूतावास ने डॉलर शक्ति से एक दोयम श्रेणी के अमेरिकी अख़बार में मोदी के हस्ताक्षरों का लेख छपवाया, जिसकी अमेरिकी मीडिया में कोई चर्चा नहीं हुयी।

इस लेख में आतंकवाद के विरोध में भारत और अमेरिका के साझापन की बात कही गयी है। जबकि ट्रम्प ने स्वागत भाषण में उत्तर कोरिया का नाम लिया न कि पाकिस्तान का। आतंक के सन्दर्भ में मोदी भी बस अफगानिस्तान का नाम लेकर रह गए, पाकिस्तान का नाम लेने की हिम्मत मोदी नहीं दिखा पाए।

लगता है अमेरिका ने भारत को उत्तर कोरिया के विरुद्ध इस्तेमाल करने की ठान ली है। ट्रम्प ने अपने भाषण में भारत, जापान और अमेरिका के 'कोरिया समस्या' को लेकर संयुक्त अभ्यास का जिक्र किया। जाहिर है चीन को इसकी भनक है। तभी उसने मोदी यात्रा से पहले भारतीयों की मानसरोवर यात्रा रद्द कर दी। दूसरे शब्दों में चीन यह चेतावनी दे रहा है, 'देख लो, हम भी हैं।' पाकिस्तान के नाम पर गुर्राने वाले मोदी की चीन के नाम पर घिग्घी बांध जाती है। अमेरिका के सहारे ज्यादा कूदने पर, डर है देश को कहीं 1962 जैसी जलालत न उठानी पड़े।

मोदी तो छिपा गए पर ट्रम्प ने यह खुलासा भी किया कि अमेरिका अपनी फालतू गैस भारत को बेचेगा। ऊर्जा का अंतर्राष्ट्रीय बाजार कमजोर चल रहा है और सभी को खरीदार चाहिए। उधर, भारत में मोदी के दोस्तों अडानी और अम्बानी और जिंदल ने इस क्षेत्र में निजीकरण की लूट में बड़े मुंह मारने ही हैं। यानी ट्रम्प और मोदी दोनों को माफिक सौदा।

अंतर्राष्ट्रीय ख्याति के 'इकनॉमिस्ट' ने इस यात्रा पर यूँ ही नहीं लिखा है कि मोदी की शोहरत पूंजीपतियों को धड़ाधड़ जमीन दिलाने या नोटबंदी जैसे दुस्साहस की तो रही है पर किसी व्यापक आर्थिक विज़न की नहीं।

ट्रम्प के हाथों मोदी की उपेक्षा, ट्रम्प की जीत पर दीवाली मनाने वाले मोदी भक्तों को निराश तो करेगी ही।

Posted On : 27 06 2017 12:06:44 PM

राजनीति