Last Update : 03 12 2017 11:58:12 AM

खुलासा : 1970 में ही RSS ने रच दी थी इंदिरा गांधी के हत्या की साजिश

अजय राय की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट

जनज्वार। तीन सांसदों और एक केंद्रीय उपमंत्री विश्वनाथ राय के संसद में यह पूछने पर कि क्या आरएसएस तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या करा सकती है तो मौजूदा केंद्रीय गृहमंत्री केसी पंत ने जवाब में लिखा था, 'यस सर।'

9 दिसंबर 1970 को लोकसभा में 3 सांसदों डी अहमद, मोहम्मद शरीफ व हिम्मत सिंका ने तत्कालीन गृहमंत्री केसी पंत से (प्रश्न संख्या 3844) संसद में सवाल पूछा था कि क्या आरएसएस प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या की साजिश रचने में लगी है। बड़ी बात यह है कि जवाब में गृहमंत्री केसी पंत ने लिख दिया था, 'यस सर।' 

तीनों सांसदों डी अहमद, मोहम्मद शरीफ और हिम्मत सिंका ने संसद में 1970 में गृहमंत्री का पद संभाल रहे केसी पंत से इसलिए यह सनसनीखेज सवाल पूछा क्योंकि केंद्रीय उपमंत्री विश्वनाथ राय इस संदर्भ में मीडिया में बयान दे चके थे।

गृहमंत्री केसी पंत का जवाब जिसमें उन्होंने 'यस सर' लिखा है 

केंद्रीय उपमंत्री विश्वनाथ राय ने कहा था कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या कराने की साजिश कर रही है।

इस सनसनीखेज मसले को लेकर विश्वनाथ राय के बेटे कर्नल प्रमोद शर्मा ने कई बार आरटीआई समेत कई माध्यमों से जानना चाहा कि क्या आखिरकार तीन सांसदों द्वारा सदन में सवाल उठाने और एक मंत्री के बयान देने के बावजूद सरकार ने इस संदेह पर 1970 से अबतक बीत चुके 57 सालों में क्या किया है, जांच कहां तक पहुंची है।

पूर्व केंद्रीय उपमंत्री के पुत्र कर्नल प्रमोद शर्मा कहते हैं, 'इंदिरा गांधी के हत्या के मामले में मेरे पास कई ऐसे पत्र हैं जो जाहिर करते हैं कि तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या में आरएसएस की भूमिका को इनकार नहीं किया जा सकता है।

देखें वीडियो पूर्व केंद्रीय उपमंत्री विश्वनाथ राय के पुत्र क्या कहते हैं?

कर्नल प्रमोद शर्मा कहते हैं कि यदि ऐसा है तो इन आरोपों की जांच के लिए क्या कदम उठाए गए, साथ ही साथ ही सरकार सीबीआई जांच कराने के लिए कोई पहल की है या नहीं और यदि हां तो उसका क्या निष्कर्ष रहा? इस सवाल पर RSS के किसी प्रतिनिधि ने जांच कराने की मांग की अथवा नहीं? आरोप को झूठा होने की स्थिति में क्या मंत्री के त्यागपत्र की मांग की गई? और यदि हां तो सरकार की इस पर क्या प्रतिक्रिया रही?

इस दौरान सदन में प्रश्नों का जवाब देते हुए तत्कालीन गृह मंत्री के सी पंत ने जवाब देते हुए 'यस सर' लिखा। साथ ही केसी पंत ने यह भी लिखा कि उन्हें दिल्ली के मेयर द्वारा भी इस बाबत पत्र मिला है, इस विषय पर आवश्यक कार्यवाही की जा रही है।

गौरतलब है कि इस मामले को लेकर पूर्व केंद्रीय उपमंत्री विश्वनाथ राय के पुत्र कर्नल प्रमोद शर्मा ने 5 नवंबर 2015 को सूचना अधिकार अधिनियम के तहत गृह मंत्रालय से सूचना मांगी थी। कर्नल शर्मा ने उस पत्र का हवाला देते हुए मुख्य रूप से उस enquiry का निष्कर्ष मांगा।

प्रमोद शर्मा ने आरटीआई में दोबारा से अबतक की गई कार्यवाही के साथ सारी पत्रावलियां मांगी हैं। कर्नल शर्मा ने मांगी गई सूचना में यह भी पूछा है कि तत्कालीन उपमंत्री विश्वनाथ राय द्वारा rss पर लगाए गए हत्या की साजिश के आरोप के बाद श्रीमती गांधी की सुरक्षा का क्या प्रबंध किया गया था।

इस बाबत गृह मंत्रालय से कर्नल प्रमोद शर्मा को अब तक 50 से अधिक पत्र प्राप्त हो चुके हैं। किंतु गृह मंत्रालय इस संदर्भ में कोई भी सूचना नहीं होने की बात कर रहा है।

पूर्व केंद्रीय उपमंत्री विश्वनाथ राय के बेटे कर्नल प्रमोद शर्मा द्वारा आरटीआई में गृहमंत्रालय से पूछे गए सवाल
जनपक्षधर पत्रकारिता को सक्षम और स्वतंत्र बनाने के लिए आर्थिक सहयोग दें। जनज्वार किसी भी ऐसे स्रोत से आर्थिक मदद नहीं लेता जो संपादकीय स्वतंत्रता को बाधित करे।
Posted On : 02 12 2017 06:16:44 PM

जनज्वार विशेष