Last Update : 16 05 2018 07:57:41 AM

वाराणसी में निर्माणाधीन फ्लाईओवर गिरने से तकरीबन 25 लोगों की मौके पर मौत, दर्जनों गाड़ियां दबी मलबे में

100 से ज्यादा लोगों के गंभीर रूप से घायल होने की खबर, प्रत्यक्षदर्शियों की मानें तो मृतकों का आंकड़ा भी पहुंच सकता है 50 पार

वाराणसी, जनज्वार। वाराणसी में कैंट रेलवे स्टेशन के सामने बन रहा निर्माणाधीन फ्लाई ओवर का पिलर अचानक गिरने से आज शाम दर्जनों गाड़ियां उसके नीचे आ गईं, जिसमें मौके पर ही 12 लोगों की मौत होने की खबर आ रही है।

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक यह हादसा अचानक हुआ। गाड़ियों की आवाजाही हो रही थी कि शाम को अचानक निर्माणाधीन फ्लाईओवर का एक पिलर गाड़ियों पर गिर गया, जिसके नीचे दर्जनों गाड़ियां आ गयीं।

शुरुआती जांच में यह जरूर सामने आया है कि 25 लोग मौके पर ही मर गए हैं, मगर यह आंकड़ा कहीं ज्यादा हो सकता है। काफी लोगों के मलबे में दबे होने की भी आशंका जताई जा रही है। हालांकि अभी जांच टीम ने 16 मृतकों की सूची सौंपी है।

सवाल उठने शुरू हो गए हैं कि आखिर उत्तर प्रदेश की योगी सरकार कितना घटिया काम करवा रही थी कि बनने से पहले ही पुल की भेंट दर्जनों लोग चढ़ गए, हो सकता है बनने के बाद यह हादसा होता तो सैकड़ों लोग इसकी चपेट में आ जाते।

जांच टीम ने आधिकारिक रूप ने इस हादसे में कितने लोग मरे हैं, इस बात की पुष्टि नहीं की है। मुख्यमंत्री योगी ने घटना पर दुख जताते हुए ट्वीट किया है कि पीड़ितों को सरकार की तरफ से हरसंभव मदद दी जाएगी। प्रशासन तेजी से राहत कार्यों को अंजाम देगा, जिससे कि गंभीर रूप से घायलों को समुचित इलाज मिल सके।

हादसे के बाद योगी चाहे पीड़ित परिवारों को कितना मुआवजा दें या किसी भी तरह के राहत कार्य करें, मगर निर्माणाधीन पुल के टूटने से उनकी सरकार फिर एक बार सवालों के घेरे में आ गई है, क्योंकि यूपी में ऐसे हादसों की खबर बिल्कुल आम बन चुकी है।

योगी ने भले ही मृतकों के परिजनों को 5 लाख और गंभीर रूप से घायलों को 2 लाख रुपए आर्थिक सहायता देने का ऐलान किया है, मगर प्रशासनिक लापरवाही और घटिया निर्माण के चलते जो जन—धन की हानि हुई है, उसका अभी अंदाजा भी लगाना मुश्किल है।

गौरतलब है कि वाराणसी में कैंट स्टेशन के सामने सड़क पर राजकीय निर्माण निगम फ्लाई ओवर का निर्माण करा रहा है। आज शाम निर्माणाधीन फ्लाईओवर का एक पिलर गिरने से वहां अफरातफरी मच गई। पिलर के नीचे कई लोगों की दबने से मौत हो गई है। प्रत्यक्षदर्शी तो यहां तक कह रहे हैं कि हादसे में कम से कम 50 लोगों की मौत हुई है।

जनपक्षधर पत्रकारिता को सक्षम और स्वतंत्र बनाने के लिए आर्थिक सहयोग दें। जनज्वार किसी भी ऐसे स्रोत से आर्थिक मदद नहीं लेता जो संपादकीय स्वतंत्रता को बाधित करे।
Posted On : 15 05 2018 07:50:19 PM

समाज