Last Update : 08 11 2017 11:22:00 AM

मामूली विवाद में इंडिगो कर्मचारी ने पीटा यात्री को

इंडिगो अध्यक्ष आदित्य घोष ने व्यक्तिगत तौर पर मुसाफिर से मांगी माफी, कहा हमारी यह संस्कृति नहीं, उड्डयन मंत्री अशोक गजपति राजू ने इंडिगो को जारी किया नोटिस

दिल्ली। पिछले दिनों इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट की एयर साइट पर उस समय माहौल तनावपूर्ण हो गया, जब एक मुसाफिर और इंडिगो एयरलाइन के स्टाफ के बीच पहले कहासुनी फिर जमकर मारपीट हुई। मारपीट का कारण बस में चढ़ने को लेकर हुआ एक मालूसी सा विवाद था।

घटनाक्रम के मुताबिक पिछले महीने 15 अक्तूबर को राजीव कत्याल चेन्नई से चलने वाली फ्लाइट 6ई 487 से इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर पहुंचे थे। कत्याल जब फ्लाइट से उतरकर एयर साइट पर पहुंचे तो वहां खड़ी टर्मिनल ट्रांसफर बस में मुसाफिर बैठ गए थे, बस यात्रियों से फुल भरी हुई थी। इसी बात को लेकर इंडिगो एयरलाइन के कर्मचारियों के साथ कत्याल की पहले कहासुनी हुई, फिर बात मारपीट तक पहुंच गई।

अपने कर्मचारी का बचाव करते और घटनाक्रम के बारे में बताते हुए  एयरपोर्ट के वरिष्ठ अधिकारी बताते हैं, कत्याल जब तक विमान से उतरकर एयर साइट पर पहुंचे, टर्मिनल ट्रांसफर बस मुसाफिरों से भर चुकी थी। बस भरी होने के कारण इंडिगो एयरलाइन के एक कर्मचारी जुबी थॉमस ने राजीव कत्याल को बस में चढ़ने से रोका, जिससे नाराज होकर कत्याल ने इंडिगो कर्मचारी जुबी थॉमस से बदजुबानी की।

जब कत्याल बस का गेट जबरन खोलने लगे तो इंडिगो कर्मचारी उन्हें घसीटते हुए वहां से दूर ले गए। इससे नाराज होकर कत्याल को भी गुस्सा आ गया और उन्होंने इंडिगो कर्मचारी पर हाथ उठा दिया। इसके बाद जुबी थॉमस ने कत्याल के साथ मारपीट की।

टर्मिनल ट्रांसफर बस के पास हुई मारपीट की घटना के बारे में पता चलने पर सीआईएसएफ कमांडो ने वहां पहुंच राजीव को बाहर निकाल दिया। सीआईएसएफ ने इंडिगो कर्मचारी जुबी थॉमस जो कत्याल को बस से घसीटकर ले गया था और कत्याल दोनों को पालम पुलिस के हवाले कर दिया।

पुलिस ने इस मामले में मामला दर्ज कर लिया। हालांकि बाद में कत्याल और इंडिगो कर्मचारी दोनों ने अपनी गलती मानते हुए आपस में सुलह कर ली।

इस पूरे घटनाक्रम पर इंडिगो प्रबंधन ने कत्याल से माफी मांगते हुए आरोपी इंडिगो एयरलाइन कर्मचारी पर कार्रवाई करने की बात कही है।

जनपक्षधर पत्रकारिता को सक्षम और स्वतंत्र बनाने के लिए आर्थिक सहयोग दें। जनज्वार किसी भी ऐसे स्रोत से आर्थिक मदद नहीं लेता जो संपादकीय स्वतंत्रता को बाधित करे।
Posted On : 08 11 2017 11:20:34 AM

विविध