Mar 24, 2017

वीसी के सामने कांफ्रेंस में पीटा महिला कर्मचारी को

जनज्वार। बुंदेलखंड विश्वविद्यालय की जूनियर स्टोर इंचार्ज डॉक्टर पुष्पा गौतम की पिटाई का वीडियो सामने आने के बाद कल बुंदेलखंड दलित अधिकार मंच ने झांसी मेडिकल कॉलेज उनसे मुलाकात की। पुष्पा गौतम पर हुए जानलेवा हमले के बाद से ही वह मेडिकल कॉलेज में भर्ती हैं। 

पुष्पा गौतम से मुलाकात करते दलित अधिकार मंच के लोग 

बुंदेलखंड दलित अधिकार मंच के कुलदीप बौद्ध ने बताया कि वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि पांच - सात पुरुष कर्मचारी पुष्पा गौतम को लाल—घूसों और कुर्सी उठाकर मार रहे हैं लेकिन विश्वविद्यालय प्रशासन ने दोषी सात कर्मचारियों के साथ पुष्पा गौतम को क्यों निलंबित कर दिया है, समझ से परे है। 

गौरतलब है कि 18 मार्च को परिक्षाओं के मद्देनजर वीसी की उपस्थिति में झांसी के बुंदेलखंड विश्व​विद्यालय के सभी प्रशासनिक कर्मचारियों की बैठक चल रही थी। बैठक में जैसे ही पुष्पा गौतम ने बताना शुरू किया कि उनसे पिछले कुछ महीनों से तीन—चार कर्मचारी नेता दो लाख रुपया मांग रहे हैं तभी वह नेता पुष्पा पर पिल पड़े। 

अस्पताल में कुलदीप बौद्ध को मामले की जानकारी देते हुए पुष्पा गौतम ने बताया कि मारने वाले कर्मचारी ज्यादातर पिछड़ी जाति से हैं और मैं दलित। अशोक कुशवाहा, संतोष कुशवाहा, उमेश करोलिया, मुकेश शर्मा आदि लोग समय—समय पर मुझ पर दबाव बनाते थे और कहते थे तुम बहुत कमाती हो दो लाख हमें भी दो। हमारे विभाग का एक चपरासी भी इनके साथ है। वह एक ​दिन ड्यूटी पर नहीं आया तो मैंने अनु​पस्थिति दर्ज कर दी। इस पर उसने मुझे धमकी दी। बाद में उसने उन लोगों को भी धमकोने के लिए बुलाया जिनका नाम मैंने उपर बताया। फिर वो लोग दो लाख को लेकर कहने लगे। मैंने कह दिया, मैं नहीं दूंगी और अब मैं वीसी से शिकायत करूंगी। और उस दिन मैं शिकायत ही करने के लिए उठी थी और मामले की जानकारी ही दे रही थी कि इन लोगों ने मुझपर हमला कर दिया। 

फिलहाल मुकदमा दर्ज हो गया है। पर एक भी आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हुई है। आरोपी फोन पर धमकी देकर एसएसटी एक्ट के तहत दर्ज मामले को वापस लेने की बात कर रहे हैं। पर पुष्पा गौतम का कहना है कि मैं पीछे नहीं हटुंगी, मैं दोषियों को सजा दिला के रहुंगी। 

पुष्पा गौतम पर हमले का वीडियो 

video

Mar 23, 2017

योगी के एंटी रोमियो दल की करतूत देखकर खून न खौला तो पानी है

उत्तर प्रदेश में एंटी रोमियो दल कैसे काम कर रहा है उसको जानना है तो आप तीन मिनट का यह ​वीडियो जरूर देख लें। लखनऊ  के राममनोहर लोहिया पार्क का यह वीडियो बताने के लिए काफी है कि आपने कैसी और किसकी सरकार चुनी है। जिस तरह वीडियो में लड़के—लड़कियों का बेइज्जत किया जा रहा है, मारा—पीटा जा रहा है, उसको देख कर आपका खून खौल जाएगा कि इसी दिन के लिए भाजपा को पूर्ण बहुमत की सरकार दी थी। 

इतना याद रखिए अगर यह सिलसिला चलता रहा और आप तमाशा देखते रहे तो एक दिन आप, आपकी बहन, प्रेमिका, दोस्त शिकार किए जाएंगे और तब कहने वाला कोई न होगा ! 


video

Mar 22, 2017

दलित लड़की का गैंगरेप, विरोध करने पर भाई की उंंगलियां काटीं

योगी जी की पुलिस पहले गैंगरेप के सबूत मिटाती है फिर चार दिन बाद ​मुकदमा दर्ज करती है


जनज्वार। मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठते ही एक्शन में आए योगी आदित्यनाथ के प्रदेश की स्थिति यह है कि वहां चार ब्राह्मण जाति के लड़के जीतू, बॉबी, रितेश और प्रवीण पहले एक नाबालिग दलित लड़की का गैंगरेप करते हैं, भाई द्वारा विरोध करने पर उसकी उंगलियां काटते हैं, पेट में चाकू से 10 बार से ज्यादा वार करते हैं, मरा हुआ जानकर छोड़ जाते हैं और पिता शिब्बू जब इन घटनाओं को बताने के लिए पुलिस को फोन करते हैं तो इलाके का एसएचओ पीड़िता के बाप को एक रात हवालात की हवा खिलाकर कुटाई करता है कि तुम अपना केस वापस लो, मासूम लड़कों को बलात्कार जैसे संगीन आरोप में न फंसाओ, उनकी जिंदगी बर्बाद हो जाएगी। 

और जब पिता ऐसा नहीं करता है तो आरोपियों के परिजन 17 वर्षीय नाबालिग पीड़िता के पिता के घर की छत में छेद करते हैं, उसे बाहर निकालते हैं, दम भर कु​टाई करते हैं और फिर घर लूटकर फूंक देते हैं। जिसमें दो मोटरसाइकिलों समेत सबकुछ जलकर खाक हो जाता है। साथ ही आरोपियों के परिजन धमकाते हैं अब राज बदल गया है. भाजपा विधायक अनिल शर्मा भी हमारा, पुलिस भी  हमारी. इस बीच वाल्मिकी परिवार खेतों—खलिहानों के रास्ते भागते हुए बुलंदशहर जाकर अपनी जान बचाता है। लूटपाट, आगजनी और जान से मारने की कोशिश के मामले में  मनोज, मनोज की घरवाली, पंकज, मुकेश, मनीष, नीतू, सोनू, राधा शर्मा,  शिवदत्त, सत्ता, वीरेंद्र और सोमू पर मुकदमा दर्ज है। पर एक भी गिरफ्तारी अबतक नहीं हुई है।

जी, हां। यही हुआ है यूपी के बुलंदशहर जिला के थाना जहांगिराबाद के ​कटियावली गांव में। गांव में तीन घर वाल्मिकी और पूरा गांव ब्राह्मणों का है। 14 मार्च की शाम 7.30 बजे अपने घेर (घर से अलग थोड़ी दूर पर जहां जानवरों को पालते हैं) पर पीड़िता जानवरों को बांधकर लौटने की ही वाली थी कि चार ब्राह्मण जाति के लड़कों ने उसको दबोच कर गैंगरेप किया। रेप करने वाले चारों आरोपियों की उम्र 20 से 30 साल के बीच है। 

पीड़ित पक्ष के वकील रणवीर सिंह लोधी बताते हैं, '14 मार्च की घटना का मुकदमा 18 मार्च को दर्ज हुआ। जहांगीराबाद थाना प्रभारी श्यामवीर ​सिंह ने मुकदमा दर्ज करने की बजाए पीड़िता के पिता को ही हवालात में डाल दिया और मुकदमा नहीं लिखाने पर दबाव बनाने लगे। दो दिन बाद में जब ये लोग मेरे पास आए तो एसएसपी सोनिया सिंह के हस्तक्षेप पर धारा 376, एसएसटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज हुआ है। हालांकि अब तक चारों में से किसी आरोपी की गिरफ्तारी पुलिस नहीं कर सकी है। पुलिस ने यह जरूर किया है कि आरोपियों के साथ मिलकर ज्यादातर सबूत मिटा दिए हैं।'

मुकदमा दर्ज कराए जाने के बाद पीड़ित परिवार गांव लौटने की हिम्मत नहीं कर पा रहा। मगर सरकार की ओर से अब तक पीड़ित परिवार के लिए न तो रहने की कोई व्यवस्था, न सुरक्षा और न ही कोई आर्थिक मदद मिली है। पीड़िता के भाई को बुलंदशहर जिला अस्पताल से दिल्ली रेफर कर दिया गया है। वहां के डॉक्टरों ने बताया कि पीड़िता के भाई राजा की हालत नाजुक है, उसे बेहतर ईलाज की जरूरत है। 

गौरतलब है कि 14 मार्च की शाम पीड़िता की चीख सुन उसका भाई राजा उसको बचाने के लिए दौड़ा आया। भाई को देख चारों ने लड़की को छोड़ उस पर हमला कर दिया। दरिंदों ने बचाव करते भाई के हाथ की चार उंगलियां काट दीं और 10 बार से ज्यादा बार चाकू से वार किया। इस जघन्य वारदात की सूचना के लिए पीड़िता के पिता ने रात में कई बार पुलिस के 100 नंबर पर फोन किया पर कोई नहीं आया। पीड़िता के पिता शिब्बू अन्य रिेश्तेदारों के साथ बेटे को नजदीकी अस्पताल में ले गए। 

Mar 21, 2017

भाजपा का एक छोटा सा साक्षात्कार

भाजपा की विकास यात्रा पर वरिष्ठ लेखक राजकिशोर ने लिया व्यंग्यात्मक साक्षात्कार 

प्रश्न : तुम्हारा नाम क्या है?
उत्तर : भाजपा कुमारी
प्रश्न : किस की बेटी हो?
उत्तर : आर एस एस पांडे की
प्रश्न : तुम्हारी उम्र?
उत्तर : यही कोई सैंतीस साल।
प्रश्न : उम्र के हिसाब से तो काफी फैल गयी हो।
उत्तर : मत पूछिए। एक बार ऐसी बीमार पड़ी थी कि मेरा वजन बस दो किलो रह गया था।
प्रश्न : उस के बाद सेहत कैसे बनी?
उत्तर : मैं नियमित रूप से वर्जिश करती हूँ। सुबह छह से सात। लाठी भाँजने में कई बार फर्स्ट आ चुकी हूँ। कुछ घरानों से टॉनिक भी आ जाता है।
प्रश्न : फिर भी इतनी जल्दी, इतना विकास?
उत्तर : अंकल, इस में मेरा दोष नहीं है। मेरी फ्रेंड्स सिकुड़ती गयीं और उन की जगह मुझे मिलती गयी। अब तो मैं ही मैं हूँ।
प्रश्न : तब तो तुम्हारी अभिलाषा पूरी हो चुकी होगी।
उत्तर : अभी कहाँ। इतनी उम्र हो गयी, पर शादी नहीं हुई। कुँवारी हूँ।
प्रश्न : क्या किसी खास लड़के का इंतजार कर रही हो?
उत्तर : हाँ, भारत कुमार।
प्रश्न : पर उस के पीछे तो और भी लड़कियाँ पड़ी हैं - रेशमा है, कावेरी है, उज्ज्वला है, ललिता है, गुलनार है, नालंदा है...
उत्तर : यही तो चुनौती है। पर पापा कहते हैं, लगी रहो, एक न एक दिन सफलता जरूर मिलेगी।
प्रश्न : आजकल भारत कुमार बहुत बीमार है। कुपोषित है। उस का पूरा शरीर दर्द करता है। उसका स्वास्थ्य लौटाओगी, तभी तो उसे पाओगी।
उत्तर : जितना होता है, करती ही हूँ। पर मेरा लक्ष्य कुछ और है।
प्रश्न : तुम्हारा लक्ष्य क्या है?
उत्तर : पकड़ुआ विवाह करना। पर और लोग भी इसी फिराक में हैं। किसी के हिस्से में हाथ आते हैं, किसी के हिस्से में पैर। पूरा किसी के हाथ में नहीं आता।
प्रश्न : ऐसे हाथ नहीं आने वाला। उसे सर्वांग सुंदरी चाहिए।
उत्तर : इस समय मुझ से सुंदर कौन है?
प्रश्न : सो तो है। पर तुम्हारी हथेली में यह खून कैसे लगा? कहाँ से आ रही हो?
उत्तर : चुप कीजिए। आप जैसे देशद्रोहियों का जवाब मैं नहीं देती।

जब 'जुमला' ही राजनीतिक रणनीति बन जाए

मोदी का कब्रिस्तान-श्मशान वाला जुमला सम्प्रेषण में कारगर रहा| अखिलेश ने इसकी काट के लिए प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र बनारस को ‘चौबीस घंटे बिजली’ जैसे तर्क का सहारा लिया| हिंदुत्व के अखाड़े में साख गंवा चुके विकास का यह अदना—सा तर्क मोदी की निर्बाध भावनात्मक अपील के सामने नहीं ठहर सका.....

विकास नारायण राय

जुमलेबाजी में गलत क्या है? प्राचीन यूनानी दार्शनिक अरस्तू के अनुसार एक प्रभावी जुमला (rhetoric) तीन तत्वों के मिश्रण से बनेगा- एथोस, पथोस और लोगोस, यानी संवादकर्ता की साख, जुमले की भावनात्मक अपील और उसमें निहित तर्क| नरेंद्र मोदी की चुनावी सफलता ने सम्प्रेषण की इस कला को आज देश की सामयिक राजनीति में स्थापित कर दिया है| उत्तर प्रदेश के हालिया चुनाव में सभी ने देखा कि कैसे अखिलेश के ‘काम बोलता है’ पर मोदी का जवाबी जुमला ‘कारनामा बोलता है’ भारी पड़ा| 

इस लिहाज से मायावती मैदान में कहीं थी ही नहीं| 2015 में स्वयं मोदी का ‘कितने लाख करोड़ दूँ’ जैसा नाटकीय जुमला बिहार में औंधे मुंह धराशायी गिरा था| बिहार चुनाव के समय मोदी हर बैंक खाते में विदेशों से लाया पंद्रह लाख काला धन जमा करने में चूक गए व्यक्ति हुआ करते थे, जबकि उत्तर प्रदेश संस्करण में विमुद्रीकरण के घोड़े पर सवार उस दिशा में बढ़ते एक योद्धा|

अरस्तू ने इसे ‘तकनीक’ कहा| हालाँकि, राजनीतिक जुमला एक तरह से भाषा के कलेवर में छिपी राजनेता की अविश्वसनीयता का भी सूचक है| भविष्य के वादे के दम पर वर्तमान को अपने साथ ले जा पाने का उसका व्यावहारिक कौशल! साध्य को पाने का साधन! उत्तर प्रदेश की अभूतपूर्व सफलता के समानंतर पंजाब की करारी हार में मोदी ने यह भी पाया होगा कि उनका जुमला कौशल बादल परिवार की शून्य बराबर साख से गुणा होकर शून्य ही रह गया| जब साख नहीं तो जुमला काम नहीं आता, नाकाफी सिद्ध होते हैं अकेले दम भावनाओं की अपील और तर्कों के फलसफे| 

बेशक, लोगों को प्रभावित करने के लिए जरूरी नहीं कि साख सच्चाई या जवाबदेही के धरातल पर टिकी हो; जरूरी होता है लोगों का जुमले से तारतम्य| इंदिरा गाँधी के मशहूर, बेहद सफल राजनीतिक जुमले ‘गरीबी हटाओ’ की तरह| वैसे ही जैसे सदाबहार बन गया है परिवार नियोजन का सरकारी जुमला, ‘हम दो हमारे दो’|

मोदी ने ताजातरीन चुनावी दौर तक आते-आते महत्वपूर्ण ‘कोर्स करेक्शन’ किये हैं| बिहार चुनाव के समय उनकी छवि कृषि भूमि हड़पने पर उतारू, बुलेट ट्रेन और क्रोनी कॉर्पोरेट की संगत में दस लाख का नामधारी सूट पहन विदेशों में वक्त गुजारने वाले बड़बोले प्रधानमंत्री की बन रही थी| आज वे रसोई गैस, शौचालय, सकल आवास, बेटी बचाओ, कर्ज माफी, ईमानदार शासन और गुंडाराज से मुक्ति जैसे समावेशी मुद्दों की ब्रांडिंग को लालायित नेतृत्व के रूप में उभरते लग रहे हैं| 

मोदी के विकास केन्द्रित जुमलों को साख यहाँ से मिली ईमानदारी की भावनात्मक अपील और सुशासन की तर्क शक्ति तो उनमें पहले भी कम न थी| ध्यान रहे कि एक भी मुस्लिम को उम्मीदवार बना पाने में असमर्थ भाजपा का मुख्य राजनीतिक जुमला, ‘सबका साथ सबका विकास’ साख और तर्क के मानदंड पर फिसड्डी रहा| मात्र एक भावना भर प्रेषित करने से यह पार्टी की कमजोर कड़ी सिद्ध हुआ| इसे मुस्लिमों, ईसाइयों और दलितों ने जैसे पहले नाकारा था वैसे ही अब भी| स्वीकारा तो दूसरों ने भी नहीं| हालाँकि भाजपा घाटे में नहीं रही क्योंकि पंजाब के बादलों की ही तरह उत्तर प्रदेश में यादवों की ब्रांड साख भी जीरो रही| लिहाजा, राहुल-अखिलेश के ‘यूपी को युवा साथ पसंद है’ वाली संयुक्त जुमलेबाजी का नतीजा कांग्रेस के लिए सिफर निकला|

सफल चुनावी जुमला और कुछ नहीं सही वोटर निशाने पर लगा शब्द बाण ही है| इस चुनावी दौर में हमने देखा कि इसका वाहक आशा, भय, घृणा, असुरक्षा, राष्ट्रवाद, विकास, कुछ भी हो सकते हैं| इसकी प्रभावी ताकत में संदेह नहीं| अपने हिंदुत्व वोट बैंक के चुनावी ध्रुवीकरण के लिए भाजपा पारंपरिक रूप से विरोधियों पर तुष्टीकरण का आरोप मढ़ती आयी है| 

अब की बार उत्तर प्रदेश में इसे सिरे चढ़ाने के लिए पार्टी को राम मंदिर या मुजफ्फरनगर का ढोल पीटने की जरूरत नहीं पड़ी| मोदी का कब्रिस्तान-श्मशान और ईद-दीवाली वाला जुमला सम्प्रेषण में कारगर रहा| अखिलेश ने इसकी काट के लिए प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र बनारस को ‘चौबीस घंटे बिजली’ जैसे तर्क का सहारा लिया|हिंदुत्व के अखाड़े में साख गंवा चुके विकास का यह अदना—सा तर्क मोदी की निर्बाध भावनात्मक अपील के सामने नहीं ठहर सका|

भारत निर्माण में सकारात्मक राजनीतिक जुमलों की ताकत बखूबी महसूस की गयी है| स्वतंत्रता संग्राम में ‘आजादी हमारा जन्म सिद्ध अधिकार’, ‘बन्दे मातरम’, ‘इन्कलाब जिंदाबाद’, ‘भारत छोडो’ और ‘तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा’ का सिलसिला स्वतंत्र भारत में ‘जय जवान जय किसान’ और ‘हर जोर जुल्म से टक्कर में संघर्ष हमारा नारा है’ तक बना रहा | इस बीच ‘आपातकाल अनुशासन पर्व’, ‘हम मंदिर वहीं बनायेंगे’, ‘तिलक, तराजू और तलवार......’ और ‘उदारीकरण, निजीकरण, वैश्वीकरण’ बेहद विवादग्रस्त राजनीतिक जुमले बनकर देश के राजनीतिक क्षितिज पर उभरे| 

इस क्रम में देखें तो मोदी के जुमलों की चुनावी लय फिलहाल विकासवादी और विभाजक दोनों रही है| देर-सबेर वोटर को ही नहीं उन्हें भी इस घाल-मेल से निकलते दिखना होगा| अकेले गांधी जी ही यह जुमला बोल सकते थे- जो परिवर्तन दुनिया में देखना चाहते हो स्वयं में पैदा करो| यह था उनकी साख का राज! आज के दिन मोदी शायद देश में एकमात्र सक्रिय महत्वपूर्ण राजनेता हैं जो अपने श्रोताओं की आँख में आँख डाल कर कह सकते हैं, ‘न खाऊँगा न खाने दूंगा’| प्रधानमंत्री के रूप में उन्होंने कितनी ही बार करतल ध्वनि के बीच यह जुमला दोहराया होगा| 

हालाँकि, आपको बिना किसी अर्थशास्त्री के बताये भी पता है कि नोटबंदी ने काले धन पर कोई असर नहीं डाला | बैंकों का एनपीए लगातार बढ़ता जा रहा है| विजय माल्या, मोदी सरकार की आँखों में आँखें डालकर हजारों करोड़ की देनदारी के साथ देश से उड़न छू हो गया| क्रोनी कॉर्पोरेट तंत्र पहले जैसा ही फल-फूल रहा है| मणिपुर और गोवा में भाजपा सरकारें वोट से नहीं खोट से बनी हैं| तो क्या, महत्वपूर्ण है कि ‘न खाऊँगा न खाने दूंगा’ की मोदी साख बरकरार है|


मनमोहन सिंह इस जुमले का सिर्फ पहला आधा भाग कह सकते थे, ‘न खाऊँगा’, और मायावती सिर्फ शेष आधा, ‘न खाने दूंगी’| क्या मोदी के जुमलों की अंतर्वस्तु और उनकी सार्वजनिक वक्तृता शैली की तुलना हिटलर से की जा सकती है, जैसा कि उनके कई विरोधी दावा करते रहे है| इसके समर्थन में मुख्यतः मोदी की विशाल भीड़ से एकाकार होने के क्रम में नाटकीय भंगिमाओं और उनके गुजरात दौर के सांप्रदायिक पूर्वाग्रहों का हवाला दिया जाता है| 

जैसे हिटलर जर्मन श्रमिक से एकजुटता दिखाने के लिए अपने साढ़े चार वर्ष के एक साधारण सैनिक के जीवन का भावुक हवाला दिया करता था, क्या मोदी का चाय वाला अवतार भी वही मकसद हासिल करता नहीं लगता? शब्दों के दोनों चितेरे राष्ट्रवादी फासिस्ट अपील से अपने श्रोताओं पर जादुई असर छोड़ते नजर आते हैं| लेकिन, भिन्न कालखण्डों के भिन्न राजनीतिक सन्दर्भों की कोई भी तुलना अकादमिक हो सकती है, जरूरी नहीं व्यावहारिक भी हो| अरस्तू वर्णित राजनीतिक जुमलों की अपील के तत्व बेशक दोनों में हों, वे उसी गहन रूप में आज भी हम पर असर करते हों, तो भी देश-काल सापेक्षता के निर्णायक महत्व को नकारा नहीं जा सकता है| हिटलर युद्ध उन्माद की उपज था| मोदी का जमाना ट्वीट का जमाना है|

भारत में ऐसे विचारकों की भी कमी नहीं जो भारतीय प्रधानमंत्री के राजनीतिक सम्प्रेषण को अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प के खांचे में रखना चाहेंगे| लेकिन सच्चाई यह है कि जुमलेबाजी की कला में ट्रम्प बहुत पीछे छूट जाते हैं| उनकी शैली दो टूक बात कहने वाली रही है, लगभग जुमला-विरोधी| दरअसल, इस क्षेत्र में मोदी की तुलना ट्रम्प के पूर्ववर्ती राष्ट्रपति ओबामा से करनी अधिक दुरुस्त होगी, जो निर्विवाद रूप से शब्दों के कुशलतम चितेरे गिने जाते हैं| राष्ट्रपति चुनाव प्रचार में ओबामा को उनकी नीतियों से कहीं ज्यादा उनके नपे-तुले शब्दों के लिए विरोधियों की घोर आलोचना सुननी पड़ी थी| 

उनके बारे में यहाँ तक कहा गया कि शब्द ही जिसके लिए सबकुछ हैं, उसका भरोसा कैसे किया जा सकता है| उत्तर प्रदेश में अखिलेश और राहुल ने भी लगातार मोदी के ‘मन की बात’ पर सवाल खड़ा किया कि वे ‘काम की बात’ कब शुरू करेंगे? यहाँ तक कि, याद कीजिये, 2014 में लोकसभा अभियान स्वयं मोदी ने भी ओबामा के मशहूर चुनावी जुमले ‘यस वी कैन’ से ही शुरू किया था| 

राजनीतिक जुमलों के अध्ययनकर्ता संपादक सैम लीथ का सटीक निष्कर्ष है कि जुमला शब्दों को शक्ति देने का काम करता है| इसका सटीक ज्ञान नागरिक को भी सत्ता के इस्तेमाल और उसके विरोध दोनों की समझ देगा |

Mar 17, 2017

देवबंद में है सिर्फ 35 फीसदी मुस्लिम वोट, 18 बार जीत चुके हैं हिंदू विधायक

पहली बार नहीं तीसरी बार जीती है भाजपा
अजय प्रकाश 


11 मार्च को जब उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव परिणामों की घोषणा होने लगी तो एक खबर सिर चढ़कर मीडिया और सोशल मीडिया में छाने लगी। कहा गया कि देवबंद में भाजपा ने जीतकर इतिहास रच दिया है। हर तरफ प्रचारित होने लगा कि देश में भाजपा की जबर्दस्त लहर है और लहर के लपेटे में देवबंद जैसी 'कट्टरपंथी' और मुस्लिम वोटरों के बहुतायत वाली विधानसभा में भी पहली बार कोई हिंदू प्रत्याशी जीता है। गौरतलब है कि देवबंद धार्मिक मुस्लिम शिक्षा का बड़ा केंद्र है और हिंदूवादी जमातों में उसकी पहचान एक कट्टरपंथी शैक्षिक केंद्र के रूप में है।

 
भाजपा प्रत्याशी बृजेश को सहारनपुर जिले की देवबंद विधानसभा से 1 लाख 1 हजार 9 सौ 77 वोट मिलने और 29 हजार 3 सौ 23 वोट से जीतने की खबर कुछ इस रूप में फैली कि वहां 71 फीसदी मुस्लिम आबादी है, वहां आजादी के बाद से सिर्फ मुस्लिम ही जीतते हैं, बावजूद अबकी भाजपा जीत गयी। कुछ जगहों पर देवबंद विधानसभा की मुस्लिम आबादी को 80 प्रतिशत तक ​लिखा गया।

इन दावेदा​रियों का लब्बोलुआब ये रहा कि भाजपा की जीत बगैर मुस्लिम मतदाताओं के वोट के संभव नहीं है और इसको आधार बनाकर यह साबित करने की कोशिश की गयी कि भाजपा की 325विधानसभाओं में जो चमत्कारिक जीत है, वह बगैर मुस्लिम वोटों के संभव नहीं है। यानी अखलाक की हत्या, नोटबंदी से मुश्किलों में पड़ी मुस्लिमों की शिल्पकारी, भाजपा नेताओं की दंगाई मानसिकता और बार—बार मुस्लिमों को देशद्रोही साबित करने की हिंदूवादी प्रवृत्ति को अल्पसंख्यक मतदाता भूल गए और उन्हें मोदी जी के करिश्माई चरित्र ने अपनी ओर खींच लिया।

भाजपा की ऐतिहासिक जीत का खुमार ऐसा है कि तथ्य जांचना भी भाजपा के प्रति पूर्वग्रहित होना समझा जाने लगा है। सवाल करने वाले पत्रकारों और तथ्य के मांग करने वालों को 'वैचारिक लट्ठ' से हुरपेटा जा रहा है। बहुत ही शातिराना तरीके से ​हिंदू मानसिकता के पत्रकारों ने यह स्थापित करने की कोशिश की कि 'तीन तलाक' को खत्म करने के सकारात्मक रुख के कारण मुस्लिम महिलाओं ने बीजेपी को वोट दिया है। दो कदम आगे बढ़कर बाकायदा चुटकुले और फब्तियां शेयर होने लगीं और ज्यादातर संघी मानसिकता के लोगों ने मान लिया कि मुस्लिम मतदाताओं ने भी भाजपा को वोट दिया।

पर जनज्वार की पड़ताल में यह एक बड़ा झूठ निकला। वोट प्रतिशत से लेकर वोटरों की गिनती सबकुछ ​दुष्प्रचार का हिस्सा लगा। पता चला कि यहां न सिर्फ हिंदू—मुस्लिम वोटरों का प्रतिशत 60 'हिंदू'और 40 'मुस्लिम' का है, बल्कि 1951 से लेकर2017 के बीच सिर्फ 2 बार मुस्लिम ​विधायक जीते हैं, जबकि 18 बार हिंदू विधायक जीत चुके हैं।

देवबंद से भाजपा पहली बार नहीं तीसरी बार जीती है, जबकि बसपा दो बार और सपा सिर्फ एक बार जीती है। देवबंद पारंपरिक तौर पर कांग्रेस की सीट है,पर एक बार निर्दलीय और लोकदल के विधायक भी जीत चुके हैं। 2017 से पहले बीजेपी की शशिबाला पुंडीर 1993 में और सुखबीर सिंह पुंडीर 1996 में क्रमश: 68698 और 61807 वोट पाकर विधायक रह चुके हैं।

देवबंद के पत्रकारों, नेताओं, किसानों और सामाजिक कामों में सक्रिय करीब दर्जन भर लोगों से जनज्वार ने बात की। सहारनपुर ईटीवी संवाददाता तसलीम कुरैशी कहते हैं, 'हां, मैंने भी देखा कि मीडिया और सोशल मीडिया पर प्रचारित हो रहा है कि देवबंद में भाजपा से एक हिंदू ने विधायकी जीतकर इतिहास रच दिया है। पर आप यहां कहेंगे तो लोग हंसेंगे। मुझे अफसोस है कि ​दिल्ली में बैठे पत्रकार तथ्यों इस कदर अनभिज्ञ हैं और फेसबुक पर ​बैठ फिजूल की दावेदारियां किए जा रहे हैं। आखिर उन्होंने एक बार चुनाव की साइट की देख ली होती तब भी उनको पता चल जाता कि यहां पारंपरिक विजेता कौन है।'

मुजफ्फरनगर के वरिष्ठ पत्रकार संजीव चौधरी के अनुसार, 'जीत की खुमारी में इलाकों के भूगोल बदलने की तेजी दरअसल उस सांप्रदायिक सोच को दिखाती है जो उन्मादी जमातों के दिल में दशकों से बैठा पड़ा है। जिस देवबंद में ​मुस्लिम वोटरों की आबादी ठीक से 35 प्रतिशत भी नहीं है, उसे 71 से80 बताने की मंशा का गहरा विश्लेषण होना चाहिए अन्यथा झूठ की नींव पर सच स्थापित करने की पत्रकारिता में नई परंपरा चल पड़ेगी।'
आंकड़ों में देवबंद का सच

विधानसभा — देवबंद — संख्या — 5

आबादी  — 8 लाख से अधिक

मतदान केंद्र — 178


वोटर — महिला — 1 लाख 49 हजार 547

      पुरुष —  1 लाख 77 हजार 306

कुल वोटर — 3 लाख 26 हजार 853


देवबंद विधानसभा में हिंदू व दलित वोट — 2 लाख17 हजार 354

देवबंद विधानसभा में मुस्लिम वोट — 1 लाख 9हजार 567

पूरा वोट — 3 लाख 26 हजार 921


प्रतिशत में हिंदू वोट — लगभग 65 प्रतिशत

प्रतिशत में मुस्लिम वोट — 35 प्रतिशत


चुनाव आयोग की संख्या और जाति और धर्म आधारित वोटरों की गिनती में 68 का फर्क है, वह इसलिए है कि उतने वोटरों का नाम वोटर लिस्ट में नहीं था।


इस बार देवबंद में वोट

भाजपा — 101977

बसपा — 72654

सपा — 55278

रालोद — 1129

सभी निर्दलीय प्रत्याशी — 1901

नोटा — 796

कुल वोट जो इस बार पोल हुआ — 2 लाख 33 हजार735

प्रतिशत — 67 प्रतिशत


इसमें से सपा और बसपा को मिले वोट को देखें तो वह 1 लाख 27 हजार 932 होता है, जबकि भाजपा को 1 लाख 1 हजार 77 वोट मिले हैं।

जाहिर वह दावेदारी इन तथ्यों के आगे सिर के बल खड़ी नजर आती है, जो मीडिया और सोशल मीडिया ने बड़े जोर—शोर से प्रचारित किया।

एक तो देवबंद में न तो हिंदुओं से मुसलमान ज्यादा हैं और न ही मुस्लिम या उनकी औरतों ने कोई वोट किया है। बल्कि भाजपा को हिंदू वोटों के ध्रुवीकरण का फायदा मिला है। अलबत्ता चुनाव परिणामों से साफ है कि हिंदुओं की करीब 40 हजार आबादी ने सपा—बसपा को भी वोट किया है।

Mar 10, 2017

सैफुल्ला के पिता ने की जांच की मांग

भाई ने उठाए पुलिसिया दावे पर सवाल

लखनऊ के ठाकुरगंज में आतंकी होने के आरोप में मारे गए सैफुल्ला के पिता सरताज ने बेटे के इनकाउंटर के जांच की मांग की है। उनका कहना है कि बेटे के आतंकी होने की खबर मीडिया से मिली। सच्चाई क्या है, यह तो जांच से ही पता चल सकता है..... 

रिहाई मंच के कार्यकर्ताओं से बातचीत करते सैफुल्ला के भाई और पिता
उन्होंने यह भी कहा, 'अत्यधिक दबाव के चलते मैंने बेटे की लाश लेने से मना कर दिया, पर मैं मीडिया के सामने बार-बार पूरे मामले की जांच की मांग करता रहा। मीडिया ने उसे प्रसारित नहीं किया।'

रिहाई मंच के कार्यकर्ताओं से बात करते हुए सैफुल्ला के पिता ने बार—बार कहा कि मैं अभी भी बहुत दबाव महसूस कर रहा हूं। हालांकि आतंक के मामले में फर्जी ढंग से फंसाए गए लोगों की कानूनी मदद करने वाले संगठन 'रिहाई मंच' ने सैफुल्ला के परिजनों से मुलाकात कर उन्हें किसी के भी दबाव में न आने की बात कही। रिहाई मंच की ओर से मंच के अध्यक्ष एडवोकेट मो0 शुऐब, महासचिव राजीव यादव, शबरोज मोहम्मदी, प्रियंका शुक्ला, शरद जायसवाल, गुंजन सिंह, सेराज बाबा, फिरदौस सिद्दीकी, एखलाक चिश्ती, रजीउद्दीन और परवेज सिद्दीकी कानपुर गए थे। 

कानपुर में सैफुल्ला के घर दौरे पर गए रिहाई मंच के कार्यकर्ताओं से बातचीत में सैफुल्ला के भाई खालिद ने बताया कि किसी ने उन्हें फोन करके अपने को पुलिस अधिकारी बताया और कहा,  तुम अपने भाई को समझाओ। हम तुम्हारी उससे बात करवाते हैं वो सरेंडर नहीं कर रहा है और शहादत देने की बात कर रहा है। इसके बाद खालिद ने बदहवासी में अपने भाई से जोर-जोर से सरेंडर कर देने की बात करता रहा, लेकिन उधर से कोई आवाज नहीं आ रही थी, जिसके बाद फोन कट गया।'

रिहाई मंच के पूछने पर कि उसे आपको भाई की आवाज सुनाई दे रही थी तो सैफुल्ला के भाई खालिद का जवाब था, 'भाई की आवाज नहीं सुनाई दे रही थी। सिर्फ गोलियों की आवाज ही सुनाई दे रही थी।' 

रिहाई मंच के अध्यक्ष और लखनऊ हाईकोर्ट के वरिष्ठ वकील मोहम्मद शोएब कहते हैं, 'सैफुल्ला के कानपुर​ स्थित घर जाने से पहले हमारी टीम ने लखनऊ के ठाकुरगंज स्थित कथित मुठभेड़ स्थल का दौरा कर स्थानीय लोगों से बातचीत की।' 

मोहम्मद शोएब के अनुसार, 'पुलिस ने लाउडस्पीकर पर सैफुल्ला के आत्मसमर्पण करने की बात कहने का दावा किया है। लेकिन स्थानीय लोगों के मुताबिक ऐसा कुछ भी नहीं हुआ है। सवाल उठता है कि तब पुलिस यह दावा क्यों कर रही है? क्या ऐसा करके वो इस कथित मुठभेड़ में हुई हत्या को विधिपूवर्क पूरा किए गए अपने कथित काउंटर अटैक का तार्किक परिणाम बताना चाहती है?' 

Mar 9, 2017

दुनिया की सबसे भ्रष्ट पुलिस तीन दिन में भरोसेमंद कैसे हो गयी

तीन दिन पहले एक सर्वे में भारत के लोगों ने कहा कि देश की पुलिस दुनिया की सबसे भ्रष्ट पुलिस है। 7 मार्च का जारी हुई एमनेस्टी इंटरनेशनल की रिपोर्ट में 70 प्रतिशत भारतीयों ने बहुत खुलकर बताया कि बिन पैसे लिए पुलिस कैसे एक नहीं सुनती। पैसे लेकर मुकदमे दर्ज करती है, कार्यवाही करती है, फंसाती है या छोड़ती है......

अजय प्रकाश 

याद कीजिए यह सर्वे अखबारों में छपा भी। देश के लोगों कहा भी कि 10 में से 7 लोग घूस देते हैं तभी पुलिस काम करती है। लोगों ने यह भी बताया है कि पुलिस पैसा लेकर फर्जी मामलों में फंसाती है। पुलिस की खुबियों को कुछ टीवी वालों ने भी दिखाया।

फिर भ्रष्ट पुलिस में तीन दिन में ऐसा कौन सा रासा​यनिक परिवर्तन हुआ जिसके कारण वह आपको पवित्र लगने लगी। किस बिना पर मान लिया कि जो पुलिस बिन पैसे एक नहीं सुनती, वह सैफुल्ला को मारे जाने के बाद जो दावा कर रही वह सही ही है। खासकर उत्तर प्रदेश पुलिस, वह तो शिकायत दर्ज करने पर एक फोटोकॉपी तक नहीं देती।  

सवाल यह भी है कि क्या आपने तीन दिन पहले झूठ कहा था? आपने पुलिस को भारत का सबसे भ्रष्ट महकमा किसी से पैसे लेकर कहा? किसी टीवी चैनल और अखबार के बहकावे में कहा? किसी मीडिया ने आप पर मानसिक दबाव बनाया कि आप भारतीय पुलिस को देश ही नहीं दुनिया की सबसे भ्रष्ट सुरक्षादाता की उपाधि से नवाजें।  

अगर नहीं तो उसी पुलिस द्वारा आतंक के मामले में गढ़ी गयी इनकाउंटर की कहानी आपको शत प्रतिशत सच कैसे लगी। सिर्फ इसलिए कि मारा जाने वाला मुसलमान है, एक कमजोर और बेबस घराने की औलाद है। 

अन्यथा कैसे आपने मान लिया कि पुलिस और पिता की भावना एक है। कैसे आपने मान लिया कि न्याय और सत्ता की भावना एक है। किस बिना पर आप आंखों से खून रो रहे एक पिता को बहादुरी का तमगा देने पर आमादा हैं जबकि पांच वक्त के उस नमाजी बाप के हाथ में कब्र की मिट्टी तक नहीं लग पाई है। आपको क्या उसके भाई यह बात बेजा लगती है कि 'मरने वाला मर गया कौन झंझट मोल ले। नेता आएंगे, जिंदाबाद मुर्दाबाद होगा।'

बहरहाल, आपको नहीं लगता कि हिंदू— मुमलमान के चक्कर में सत्ता के सामने आप इतने कमजोर हो जाते हैं कि हर पांच साल बाद मदारी वोट लेने आ जाते हैं और आप उनके 'वादों' की मुंहदिखाई करते रह जाते हैं। आज सच्चाई का पुतला लग रही यही पुलिस जब गुंडों, नेताओं, पूंजीपतियों और माफियाओं की शागिर्द बनी घूमती है और चौतरफा बिसुरते फिरते हैं, फिर कोई हिंदू भावना या सांप्रदायिक चाहत आपका भला कर पाती है क्या?  

क्या आपकी इसी कमजोरी के चलते सत्ता की बेशर्मी और आपकी मानसिक गुलामी नहीं बढ़ती जा रही। क्या इसी कारण देश की पुलिस, नेता और अधिकारी दिन—ब​—दिन और भ्रष्ट, तानाशाह और जनविरोधी नहीं होते जा रहे। जबकि देश की जनता बतौर नागरिक रोज—ब—रोज कमजोर होती जा रही है। 

आपको याद है हमारे गृहमंत्री राजनाथ सिंह 67 लोगों की हत्या के आरोपी असीमानंद के बारे में कहा था, असीमानंद आतंकी नहीं हो सकता। विपक्ष में रहते हुए राजनाथ सिंह बकायदा आतंक के आरोपियों से बकायदा मिले थे, उनको छुड़वाने का आश्वासन दिया था और वादा किया था कि हमारी सत्ता आई तो उन्हें छोड़ देंगे। 

असीमानंद का बरी होना, माया कोडनानी का गुजरात दंगों में सौ लोगों की हत्या के आरोप में दोषी करार दिए जाने के बाद 28 साल की सजायाफ्ता होने के बावजूद घर पर महीनों से आराम करना और साध्वी प्रज्ञा का धमाकों के सभी मामलों से बरी होते जाना क्या उसी योजना का हिस्सा नहीं है। 

ऐसे में पुलिस की किसी कार्यवाही पर आंख मूंद लेना और मुसलमान होने के कारण पुलिस की दावेदारी को सच मान लेना न्याय के पक्ष में होने की बजाय पुलिसिया भ्रष्टाचार और सत्ता की तानाशाही के पक्ष में है। साथ ही किसी सरकार की सांप्रदाकिता किसी भी कीमत पर देश और जनता के हित में नहीं हो सकती, पार्टी हित में भले हो जाए।