Last Update : 11 04 2018 08:27:05 PM

बलात्कारी विधायक है पुराना संघी, इसलिए योगी नहीं कर रहे उस पर हाथ डालने की हिम्मत

योगी ने एक मंत्री को रेप के आरोप से किया बरी तो बलात्कारी विधायक की अभी तक नहीं की गिरफ्तारी, योगी कह रहे हैं होगी कड़ी कार्रवाई, मगर उठ रहे सवाल क्यों नहीं की जा रही बलात्कारी विधायक की गिरफ्तारी

ख्यात बॉलीवुड एक्ट्रेस रिचा चड्ढा बोलीं सरकार को बेटी बचाओ का नारा बदलकर कर देना चाहिए 'बेटी हमसे बचाओ'

लखनऊ, जनज्वार। उन्नाव के बांगरमऊ से विधायक कुलदीप सिंह सेंगर और उसके भाई पर रेप का आरोप लगाने वाली युवती के पिता की संदिग्ध परिस्थितियों में जेल में ही मौत हो चुकी है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि पिटाई की वजह से पीड़िता के पिता की आंत फट गई, जो उनकी मौत का कारण बना। पीड़ित युवती और उसके परिजनों का आरोप है कि भाजपा विधायक कुलदीप सेंगर उसके पिता पर बलात्कार का केस वापस लेने का दबाव डाल रहे थे, और यह बात जो वीडियो सामने आए हैं उससे स्पष्ट भी होता है।

बलात्कार पीड़िता युवती कहती है, बजाय दोषियों के भाजपा विधायक के इशारे पर मेरे पिता को ही गिरफ्तार कर लिया, उनके साथ जेल में जमकर मारपीट की गई, क्योंकि वो केस वापस लेने के लिए तैयार नहीं हो रहे थे। विधायक के गुंडों द्वारा पुलिस की मिलीभगत में की गई पिटाई से पीड़िता के पिता की मौत हुई है, ताकि वो डरकर केस वापस ले लें।

इस बलात्कार कांड में लगातार बढ़ रहे दबाव के बाद पुलिस सिर्फ विधायक के भाई अतुल सिंह को ही गिरफ्तार कर पाई, जो इस गैंगरेप में शामिल रहा है।

बलात्कार का आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर रेगुलर संघ की शाखाओं में जाता है, जिसका प्रमाण इस खबर के साथ लगा फोटो है। कहा जा रहा है कि संघ ही भाजपा को संचालित करता है, इसलिए योगी उस पर हाथ डालने की हिम्मत नहीं कर पा रहे।

हालांकि वह अपने अब तक के पूरे राजनीतिक कैरियर में कई पार्टियों में आते जाते रहे, मगर विचारधारा से शुद्ध संघ रहे। संघ से वे कभी जुदा नहीं हो पाए। उत्तर प्रदेश भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने नाम न बताने की शर्त पर कहा कि हाईकमान के आॅर्डर पर ही अब तक कुलदीप सिंह सेंगर की गिरफ्तारी नहीं हुई है। आज अमित शाह लखनउ आने वाले हैं, इसके बाद ही कुछ तय किया जाना है। योगी तो सिर्फ पीएमओ के निर्देश पर चलते हैं और पीएमओ संघ से निर्देशित होता है। 

यह भी पढ़ें : बीजेपी एमएलए द्वारा बलत्कृत महिला के पिता की संदिग्ध हालत में मौत, कल किया था योगी आवास के सामने आत्मदाह का प्रयास

गौरतलब है कि जब 3 अप्रैल को बलात्कार पीड़िता के पिता को पुलिस ने गिरफ्तार किया तो उनसे पुलिस द्वारा जबरन एक कागज पर अंगूठा लगवाने का एक वीडियो भी सोशल मीडिया वायरल हो रहा है। पुलिस हिरासत में ही पीड़िता के पिता की मौत के बाद सामने आये इस वीडियो में घायल अवस्था में अस्पताल में बेसुध पड़े उसके पिता से जबरन अंगूठा लगवाया जा
रहा है। बलात्कार पीड़िता के पिता ने पुलिस के सामने बयान भी दिया था कि बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के भाई अतुल सेंगर और उसके अन्य भाइयों ने उन्हें बुरी तरह से पीटा है, ताकि बलात्कार का आरोप वापस ले लें। जगह—जगह गंभीर चोट के निशान भी वीडियो में नजर आ रहे हैं।

वीडियो देखकर यह साफ हो गया है कि बीजेपी विधायक को बचाने के लिए यूपी पुलिस ने जबरन कुछ दस्तावेजों में पीड़ित युवती के पिता का अंगूठा लगवाया। इस वीडियो ने पहले से ही बदनाम पुलिस के और क्रूर चेहरे को तो उजागर किया ही है, उसे फिर से कटघरे में भी खड़ा किया है।

इतना सब हो जाने के बावजूद सूबे के मुखिया योगी कह रहे हैं कि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा, कड़ी कार्रवाई की जाएगी तो मुख्यमंत्री महोदय द्वारा अभी तक अपने विधायक को ही गिरफ्तार न करवाना उन्हीं पर सवाल खड़े करता है। यहां एक बात और गौर करने वाली है कि योगी सरकार ने भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद सरस्वती के विरुद्ध चल रहे बलात्कार के एक मुक़दमे को वापस लिए जाने के आदेश संबंधी एक पत्र शाहजहांपुर ज़िला प्रशासन को भेजा है।

जबकि बलात्कार पीड़िता ने इसके खिलाफ राष्ट्रपति को भेजे गए पत्र में सरकार के इस क़दम को सवालों में खड़ा करते हुए चिन्मयानंद के ख़िलाफ़ वारंट जारी करने की मांग की है। वहीं योगी सरकार के गृह विभाग ने शाहजहांपुर कोतवाली में स्वामी चिन्मयानंद पर धारा 376 (बलात्कार) और 506 (धमकाने) के तहत दर्ज मुक़दमा वापस लिए जाने का आदेश ज़िला प्रशासन को जारी कर दिया है।

उत्तर प्रदेश के पूर्व पुलिस उपमहानिरीक्षक एसआर दारापुरी कहते हैं उन्नाव गैंगरेप ने हमारी क्रिमिनल जस्टिस व्यवस्था और मोदी के बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ नारे को नंगा कर दिया है।

उन्नाव गैंगरेप मामले में पीड़िता के पिता की पुलिस हिरासत में मौत के मामले में बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर का एक ओडियो भी मीडिया में सामने आया है, जिसमें बीजेपी विधायक पीड़ित के परिवार को धमका रहे है और मामले को खत्म करने का दबाव बना रहे है। कुलदीप सिंह ने आडियो में यह भी स्वीकारा है कि मारपीट क्यों की गई। बीजेपी विधायक पीड़ित परिवार से कहते दिखाई दे रहे हैं, हमारे खिलाफ पर्चा क्यों लगवाते हो? पीड़ित पक्ष को चुप रहने के लिए कह रहे हैं।

इस कांड पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी लिखते हैं, बेटी बचाओ-खुद मारे जाओ। एक युवती भाजपा MLA पर बलात्कार का आरोप लगाती है| MLA को गिरफ्तार करने के बजाय पुलिस युवती के पिता को हिरासत में ले लेती है। उसके तुरंत बाद पुलिस कस्टडी में उनकी मृत्यु हो जाती है। वहीं आरोपी भाजपा विधायक अभी भी खुले घूम रहे हैं।'

बलात्कार पीड़ित युवती के पिता की पुलिस कस्टडी में मौत को लेकर चीफ मेडिकल ऑफिसर (सीएमओ) एसपी चौधरी कहते हैं, जब पीड़िता के पिता को अस्पताल लाया गया था तो उसकी आंत में गंभीर चोट लगी थी। गंभीर चोट की वजह से उसकी मौत हुई। आंत फटने की वजह से इंफेक्शन हुआ, जिससे उसकी मौत हुई।

उन्नाव गैंगरेप में बॉलीवुड अभिनेत्री ऋचा चड्ढा ने सरकार पर ही तंज कसते हुए लिखा है, 'सरकार को बेटी बचाओ का नारा बदलकर बेटी हमसे बचाओ कर देना चाहिए। बीजेपी के विधायक ही आपके नारे का मजाक बना रहे हैं। पीड़िता के पिता की जेल में हत्या कर दी गई? हिंदू होने का दावा न करें, क्योंकि आप महिलाओं को देवी की नजर से नहीं देखते हैं। ऐसे में अब इस पाखंड को बंद करें।’

देखें गैंगरेप पीड़िता के पिता मौत से पहले विधायक सेंगर और उसके भाई द्वारा की गई मारपीट का हाल बयां करते :

जनपक्षधर पत्रकारिता को सक्षम और स्वतंत्र बनाने के लिए आर्थिक सहयोग दें। जनज्वार किसी भी ऐसे स्रोत से आर्थिक मदद नहीं लेता जो संपादकीय स्वतंत्रता को बाधित करे।
Posted On : 11 04 2018 10:25:33 AM

राजनीति