Last Update : 04 12 2017 01:41:11 PM

योगी के गढ़ में ही नहीं, वाजपेयी की राजनीतिक जन्मभूमि में भी हारी भाजपा

'सबका साथ, सबका विकास' का नारा बुलंद करने वाली भाजपा अपनी पुरानी जमीन भी खिसकने से नही रोक सकी है...

फरीद आरजू

बलरामपुर। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी की राजनीतिक जन्मभूमि में भाजपा को स्थानीय निकाय चुनावों में करारी शिकस्त मिली है। बलरामपुर में भाजपा को बड़ी हार का सामना करना पड़ा है, वहीं जिले के उतरौला की एकमात्र सीट से भी इस बार भाजपा को हाथ धोने पड़े हैं।

बलरामपुर में स्थानीय निकाय की कुल चार सीटें हैं, जिनमें दो नगरपालिका और दो नगर पंचायतें शामिल हैं। जिले के पचपेड़वा में मंज़ूर आलम खान और तुलसीपुर सीट पर फ़िरोज़ आलम खान उर्फ पप्पू खान ने निर्दलीय की हैसियत से कब्जा जमाए रखा है, तो वहीं बलरामपुर मुख्यालय की सीट पर बसपा की कितबुन्निशा ने शानदार जीत हासिल की है।

यहां पर पिछले दस सालों से सपा का कब्जा रहा है। नगर पंचायत पचपेड़वा से निर्दलीय प्रत्याशी समन मालिक पत्नी मंज़ूर आलम खान ने भाजपा की उर्मिला देवी पत्नी ओम प्रकाश गुप्ता को 180 मतों से हराकर जीत हासिल की। इस तरह यह सीट फिर से मंज़ूर खान के हाथों में पहुंच गई।

नगर पंचायत तुलसीपुर से कहकशां पत्नी फ़िरोज़ खान ने भाजपा की प्रत्याशी को 88 मतों से परास्त कर दोबारा सीट पर कब्जा जमाने मे कामयाब रहे। जिले की उतरौली नगर पालिका सीट पर भाजपा को करारी हार का सामना करना पड़ा है। यह सीट भाजपा के पास थी, जिसे सपा के मोहम्मद इदरीस खान ने भाजपा के अनूप गुप्ता को 315 मतों से हराकर अपनी झोली में डाल लिया।

बलरामपुर मुख्यालय से बसपा को बड़ी सफलता मिली है। बसपा के शाबान अली की पत्नी कितबुन्निशा ने 2392 के भारी मतों से भाजपा की मीना सिंह को हराकर जीत हासिल की है। सबका साथ, सबका विकास या नारा बुलंद करने वाली भाजपा अपनी पुरानी जमीन भी खिसकने से नही रोक सकी है।

जिले की यह सभी सीटें इसलिए भी भाजपा के लिए महत्वपूर्ण मानी जा रही थी कि जिले की लोकसभा सीट सहित सभी विधानसभा सीटों पर भाजपा का कब्जा है तथा बलरामपुर पूर्व पीएम अटल बिहारी बाजपेयी की राजनीतिक कर्मस्थली के रूप में भी प्रसिद्ध है.

जिले के तुलसीपुर में प्रसिद्ध देवीपाटन मंदिर स्थित है, जिसके मठाधीश्वर सी एम योगी हैं। यही वजह है कि निकाय चुनाव में योगी के साथ साथ डिप्टी सी एम डॉ. दिनेश शर्मा जिले में आकर भाजपा प्रत्याशी को जिताने की अपील कर चुके थे।

जनपक्षधर पत्रकारिता को सक्षम और स्वतंत्र बनाने के लिए आर्थिक सहयोग दें। जनज्वार किसी भी ऐसे स्रोत से आर्थिक मदद नहीं लेता जो संपादकीय स्वतंत्रता को बाधित करे।
Posted On : 04 12 2017 01:41:11 PM

विमर्श