Last Update : 23 03 2018 12:03:30 PM

प्रोफाइल हैक के नाम पर BFF टाइप करा बनाया जा रहा एफबी यूजर्स को मूर्ख

जनज्वार के रियलिटी चेक में BFF के दावे निकले फर्जी, आप खुद भी कर सकते हैं चेक, डाटा चोरी के गंभीर आरोपों से ध्यान भटकाने के लिए फैलाया जा रहा BFF टाइप करने का धुंध, फेसबुक भी हुआ है डाटा चोरी के सरगना के रूप में चर्चित

जनज्वार। जनज्वार टीम ने रियलिटी चेक में पाया कि BFF को लेकर फैलाए जा रही फेसबुक अकाउंट हैक किए जाने वाली बात कोरी बकवास है। इस कोरी बकवास की बदौलत सोशल मीडिया पर कुछ लोग फेसबुक यूजर्स को बहका रहे हैं और फेसबुक पर उठे गंभीर सवालों से भटकाने काम कर रहे हैं।

जनज्वार ने अपने पाठकों को गंभीरता से बताया कि कैसे फेसबुक पर डाटा चोरी का पूरा वैश्विक धंधा चल रहा है, जिसमें भारत में भाजपा मुख्य तौर पर शामिल है और डाटा चोरी की लाभार्थि है। इसके अलावा जनज्वार ने अपनी दूसरी स्टोरी में बताया कि कैसे फेसबुक से डाटा चोरी कर कंपनियां लोगों के मन—मिजाज और राजनीतिक समझदारी को मोड़ रही है।

संबंधित खबर -  एक्सक्लूसिव : फेसबुक कैसे और क्यों करवाता है आपकी प्रोफाइल से डाटाचोरी

दरअसल BFF टाइप करने का जो धुंध फैलाया जा रहा है, उसका असल मकसद वैश्विक और भारत के स्तर पर उठ रहे फेसबुक के क्रेडिबिलिटि के सवालों से भटकाने के लिए ही हो रहा है।

गौरतलब है कि फेसबुक और अन्य सोशल वेबवाइट पर यह अफवाह तेजी से प्रसारित हो रही हैं कि अगर आप फेसबुक पोस्ट की टिप्पणी में BFF टाइप करेंगे और उसका रंग बदलले से पता चला जाएगा कि आपका खाता हैक हुआ है या नहीं।

सोशल मीडिया पर बड़ी संख्या में इस तरह के जो संदेश प्रसारित हो रहे हैं उसमें दावा किया गया है कि यदि फेसबुक के कमेंट बॉक्स में BFF लिखने पर वह हरे रंग में परिवर्तित हो जाता है तो इसका मतलब आपका खाता सुरक्षित है और आपका खाता हैक होने के जोखिम से दूर है।

और नहीं होता है तो तत्काल आप अपना पासवर्ड बदल लें, क्योंकि वह हैक है।

जो अफवाहें तेजी से प्रसारित हो रही हैं उसमें यह कहा जा रहा है...

'फेसबुक के सीईओ मार्क जकरबर्ग ने BFF कोड बनाया है। जुकरबर्ग ने BFF कोड इसलिए बनाया है कि आपके फेसबुक खाते के सुरक्षित होने की गारंटी की जा सके। फेसबुक पेज के कमेंट बॉक्स में अगर आप BFF टाइप करते हैं और वह हर हो जाता है तो आपका अकाउंट सुरक्षित है और नहीं होता है तो आप तत्काल अपना पासवर्ड बदल लें।'

संबंधित खबर  - खुलासा : कुख्यात डाटा चोर कंपनी कैंब्रिज एनालिटिका की सबसे पुरानी ग्राहक है भाजपा

जबकि जनज्वार ने अपनी जांच में पाया कि फेसबुक में कमेंट बॉक्स में BFF या BFF टाइप करने से यह आमतौर पर हरे रंग में बदल जाता है, मगर कई बार नहीं भी बदलता है। लेकिन इसका मतलब यह कतई नहीं है कि आपका एकाउंट हैक हुआ है या किसी खतरे में है। यह कहीं से भी यह परखने का तरीका नहीं है कि आपका खाता सुरक्षित है या नहीं।

फिर क्या है बीएफएफ
दरअसल BFF शब्द को फेसबुक ने "विशेष" टिप्पणी के रूप में चुना गया है। इसका मतलब है 'बेस्ट फ्रेंड फॉरइवर'। जब आप इस शब्द को अपने कमेंट बॉक्स में किसी को भेजने के लिए लिखेंगे तो 'हाइ फाइव' का चिन्ह बनकर आता है, जिसका मतलब होता है दोस्ती। इसके बाद जब कमेंट डिलिवर होता है तो कलर हरा हो जाता है।

BFF अकेला शब्द नहीं है जिसे फेसबुक ने विशेष शब्दों और रंगों वाले शब्दों के रूप में चुना है। जैसे Congrats (or Congratulations) लिखने से यह नारंगी रंग में परिवर्तित हो जाता है। आप खुद इन्हें लिखकर देख और आजमा सकते हैं।

ऐसे में सवाल यह है कि आखिर कुछ लोग BFF को बिना प्रमाण के इस तरह क्यों प्रचारित कर रहे हैं कि इसे फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने खाते के रिस्क की जांच के लिए बनाया है। यह कोरी अफवाह से ज्यादा कुछ नहीं है।

ऐसी ही एक अफवाह 2016 में तेजी से फैली थी कि #177 टाइप करने से यह पता चलता है कि आपका खाता हैक हुआ है या नहीं।

जनपक्षधर पत्रकारिता को सक्षम और स्वतंत्र बनाने के लिए आर्थिक सहयोग दें। जनज्वार किसी भी ऐसे स्रोत से आर्थिक मदद नहीं लेता जो संपादकीय स्वतंत्रता को बाधित करे।
Posted On : 22 03 2018 11:09:07 PM

जनज्वार विशेष