Last Update : 27 02 2018 11:02:07 PM

डीयू छात्रा पर फेंका वीर्य से भरा कंडोम

सेक्स के मानसिक रोगियों की औरतों पर हिंसा के बढ़ते घिनौने रूप, सरकारों को घोटालों और फर्जी वादों से नहीं फुरसत, आखिर समाज की कौन सोचे

जनज्वार, दिल्ली। दिल्ली विश्वविद्यालय में पढ़ने वाली छात्रा ने अपने सोशल मीडिया वेबसाइट इंस्टाग्राम के प्रोफाइल में लिखकर बताया है कि उसके ऊपर किसी अनजान ने उपयोग किया कंडोम फेंक दिया। कंडोम वीर्य से भरा था, जो उसके लैगिंग्स पर चिपक गया।

पूर्वोत्तर की रहने वाली दिल्ली विश्वविद्यालय की इस छात्रा ने उक्त बातें अपने इंस्टाग्राम प्रोफाइल पर लिखा है। उसके ऊपर कंडोम तब फेंका गया जब वह अपने दोस्त के साथ दोपहर का खाना खाने मोहल्ले के होटल में जा रही थी।

घटना दक्षिण-पूर्वी दिल्ली के अमर कॉलोनी इलाके की है। अमर कॉलोनी में बड़ी संख्या में दिल्ली विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले छात्र रहते हैं। छात्रों में पूर्वोत्तर राज्यों के छात्र बड़ी संख्या में रहते हैं।

ये भी पढ़ें : महिला शिक्षिकाओं के स्कूल में कंडोम मिलने से सनसनी

लड़की ने इंस्टाग्राम पर 24 फरवरी को अपनी आपबीती शेयर करते हुए लिखा है कि मैं दोपहर के लंच के लिए अपने दोस्त के साथ पास के कैफे में गयी। खाकर जब 5 बजे लौट रही थी, तभी मेरे चूतड़ पर किसी ने कुछ मारा। मैंने देखा तो नीचे कंडोम गिरा था। मैंने काली लैगिंग्स पहन रखी थी उस पर सफेद—सा कुछ लग गया।

नॉर्थ ईस्ट की लड़कियों को पहले भी निशाना बनाया जाता रहा है। ये खबरें सिर्फ अखबारों की सुर्खियां बनकर रह जाती हैं।

पीड़ित लड़की ने अपने सोशल मीडिया एकाउंट पर आगे लिखा है, मुझे तुरंत पता नहीं चला कि मुझ पर क्या गिरा है, जब में अपने हॉस्टल वापस पहुंची तो मेरी एक सहेली ने मुझे इसके बारे में बताया कि तुम पर किसी ने वीर्य भरा कंडोम फेंका है। जब मुझे पता चला कि यह वीर्य है तो मैं उस चिपचिपाहट से घिना गई।

डीयू की यह छात्रा आगे लिखती है, जब मुझे वीर्य भरे कंडोम का निशाना बनाया गया तो उस दिनदहाड़े उस व्यस्त बाजार में कोई भी ऐसा नहीं था जो इसका विरोध करता।

छात्रा यहीं पर नहीं रूकती। कहती है मुझे पहले भी निशाना बनाया जा चुका है। पहले भी दिल्ली में छेड़खानी का शिकार हो चुकी हूं। सात महीने पहले भरे बाजार में मेरे पिछले हिस्से को किसी अंजान शख्स ने कई बार घिनौने तरीके से छुआ।

हालांकि दिल्ली विश्वविद्यालय का कहना है कि होली में छात्राओं के साथ होने वाली छेड़खानी और अभद्र व्यवहार से बचने के लिए कॉलेज परिसर, हॉस्टल और अन्य कॉलेजों पर सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं।

मगर शासन—प्रशासन की यह घोषणाएं सिर्फ फौरी घोषित होती हैं, क्योंकि दिनदहाड़े कोई वीर्य भरा कंडोम भरे बाजार में लड़की को निशाना बनाकर उस पर फेंक देता है, मगर हमारे लिजलिजे समाज में किसी तरह की प्रतिक्रिया व्यक्त नहीं की जाती।

जनपक्षधर पत्रकारिता को सक्षम और स्वतंत्र बनाने के लिए आर्थिक सहयोग दें। जनज्वार किसी भी ऐसे स्रोत से आर्थिक मदद नहीं लेता जो संपादकीय स्वतंत्रता को बाधित करे।
Posted On : 27 02 2018 09:49:40 PM

कैंपस