Last Update : 09 01 2018 09:53:37 PM

प्रकाश पांडे की जहर खाने से हुई मौत के विरोध में कल हल्द्वानी बंद

प्रान्तीय उद्योग व्यापार मण्डल ने कहा जीएसटी और नोटबंदी की भेंट चढ़ गया हमारा साथी, प्रदेश सरकार के सामने रखी मांग मृतकों के परिजनों को मुआवआ और पत्नी को दे सरकारी नौकरी....

हल्द्वानी, जनज्वार। जीएसटी और नोटबन्दी से कारोबार में आई गिरावट से परेशान व्यापारी प्रकाश पांडे द्वारा 6 जनवरी को जनता दरबार में जहर खाने के पश्चात आज निधन की सूचना मिलने पर ट्रांसपोर्ट कारोबारी व व्यापार मंडल के लोग रामलीला मैदान में एकत्र हुए। सभी ने प्रकाश पांडे के निधन पर शोक प्रकट किया और कल 10 जनवरी को हल्द्वानी बाजार बंद का निर्णय लिया है।

ट्रांसपोर्ट कारोबारी व व्यापार मंडल ने प्रकाश पांडे की जहर खाने के बाद इलाज के दौरान आज हुई मौत के बाद राज्य की त्रिवेंद्र रावत सरकार से उनके परिवार को मुआवजा देने की मांग की। व्यापार मंडल ने मांग की कि प्रकाश पांडे के परिवार को सरकार की तरफ से आर्थिक सहायता दी जाए। उनकी पत्नी के लिए इस दौरान सरकारी नौकरी की मांग भी व्यापार मंडल द्वारा रखी गई।

प्रकाश पांडे की जहर खाने से हुई मौत के बाद व्यापार मंडल से जुड़े पदाधिकारियों ने सभी व्यापारियों से निवेदन किया कि वे कल 10 जनवरी को शोक में अपने प्रतिष्ठान बंद रखें।

जहर खाकर मंत्री के सामने पहुंचे कारोबारी प्रकाश पांडे की मौत पर बोलते हुए प्रांतीय उद्योग व्यापार मंडल के महामंत्री वीरेंद्र गुप्ता कहते हैं, 7 माह पूर्व लागू हुई जीएसटी की खामियों का ही परिणाम है कि आज हमारे बीच हमारा साथी प्रकाश पाण्डे नहीं। जबकि समय—समय पर व्यापार मण्डल जीएसटी की खामियों से सरकार व जीएसटी अधिकारियों को अवगत कराता रहा है, लेकिन व्यापारियों की आवाज को सरकार द्वारा हमेशा अनसुना कर दिया जाता है।

प्रकाश पांडे की मौत की सूचना मिलने के बाद आज रामलीला मैदान में प्रान्तीय उद्योग व्यापार मण्डल के केंद्रीय सयोजक डॉ. धर्म प्रकाश यादव, देवभूमि व्यापार मंडल के अध्यक्ष गोविंद बगडवाल, प्रान्तीय उद्योग व्यापार मण्डल के राजीव अग्रवाल, महामंत्री वीरेन्द्र गुप्ता, ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन के अमरजीत सेठी, राजकुमार नेगी, प्रदीप सबरवाल, जिला उपाध्यक्ष मदन मोहन जोशी, विनोद, आनंद, राजीव जायसवाल, हर्षवर्धन पांडेय, मनोज जायसवाल, संजय राजपूत  हरेंद्र बगडवाल, खुशीदत्त पालीवाल, दीपक सक्सेना, रोहित भट्ट, डीके शर्मा, ललित रौतेला,  हर्षित जोशी, हीरा कार्की, मोहन महतोलिया, नीरज नेगी, किशोर कोश्यारी, गुरुचरण सिंह, राकेश गुप्ता, जसवीर खनायत, हाजी नफीस, इंद्र भटियाणी समेत सैकड़ों ट्रांसपोर्ट व्यापारी इकट्ठा हो गए थे। 

संबंधित खबरें : 

देखिए उत्तराखण्ड में मंत्री के सामने जहर खाकर जान देने वाले प्रकाश पांडे का आखिरी वीडियो
उत्तराखण्ड में जहर खाकर मंत्री के सामने पहुंचे कारोबारी की मौत
उत्तराखण्ड में जहर खाकर मंत्री के सामने पहुंचा कारोबारी, कहा जीएसटी-नोटबंदी ने कर दिया है बर्बाद   

जनपक्षधर पत्रकारिता को सक्षम और स्वतंत्र बनाने के लिए आर्थिक सहयोग दें। जनज्वार किसी भी ऐसे स्रोत से आर्थिक मदद नहीं लेता जो संपादकीय स्वतंत्रता को बाधित करे।
Posted On : 09 01 2018 09:52:47 PM

आंदोलन